ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
दुमका
सावन माह में हरी चूड़ियां रखती सुहागनों के लिए विशेष महत्व
By Deshwani | Publish Date: 31/7/2017 11:16:30 AM
सावन माह में हरी चूड़ियां रखती सुहागनों के लिए विशेष महत्व

दुमका, (हि.स.)। सावन का महीना जिस पर न जाने कितनी गाने, कविताएं, कहानी लिखे गए हैं। प्रकृति, प्रेम, आस्था से जुड़े इस माह को भारतीय संस्कृति, परंपरा और हिंदू धर्म से जोड़ा गया है। सावन के महीना आते ही रिमझिम फुहारों के बीच हरी चूड़ियों कि बिक्री बढ़ जाती है। 
श्रावणी मेला के दौरान बासुकिनाथ धाम में भी हरी चूड़ियों की खूब बिक्री होती है। खासकर सावन में इस रंग की मांग बढ़ जाती है। इन दिनों हरी चुड़ियों की कीमत में भी वृद्धि हो जाती है। पौराणिक कथा के अनुसार देवी पार्वती ने भोले बाबा को रिझाने के लिए हरे रंग की चूड़ियां पहनी थी। तब से सावन के महीने में महिलाएं हरे रंग का चूड़ी पहनती हैं, ताकि पति-पत्नि में प्यार सात जन्मों तक रहे और यही वजह है कि आज भी सभी उम्र की सुहागन महिलाएं सावन मास के दौरान हरी चूड़िया पहनती हैं।
हरी चूड़ियां पहनने अपनी पौराणिक मान्यताएं हैं। दरअसल सावन का महीना प्रकृति के सौन्दर्य का महीना होता है और शास्त्रों में महिलाओं को भी प्रकृति का रुप माना गया है। इस मौसम में बरसात की बून्द से प्रकृति खिल उठती है हर तरफ हरियाली छा जाती है। ऐसे में प्रकृति से एकाकार होने के लिए महिलाएं हरे रंग का वस्त्र और हरे रंग की चूड़ियां पहनती हैं। सावन के महीने में जिस पर भी एकबार हरा रंग चढ़ जाता है। उसकी जिंदगी जन्म-जन्म तक हरा-भरा रहता है। 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS