ब्रेकिंग न्यूज़
रेलवे में बंपर वैकेंसी, आरपीएफ के लिए 9 हजार से अधिक आवेदन मंगायेकल कर्नाटक की कमान संभालेंगे कुमारस्वामी, कांग्रेस के 22 और जेडीएस के 12 विधायक बनेंगे मंत्रीतमिलनाडु के हिंसक प्रदर्शन में 11 लोगों की मौत, राहुल ने बताया- सरकार समर्थित आतंकवादउपमुख्यमंत्री सुशील मोदी समेत इन दो मंत्रियों के खिलाफ कोर्ट से सम्मन जारीसुप्रीम कोर्ट ने भाजपा नेता को दिया बड़ा झटका, महिला पत्रकार टिप्पणी मामले में दिया गिरफ्तारी का आदेश50 लोगों ने जताई गीता से शादी की मंशा, जल्द होगा स्वंयवरतमिलनाडु में वेदांता यूनिट के खिलाफ प्रदर्शन हुआ हिंसक, 9 लोगों की मौतआर्कबिशप का खत- खतरे में देश की धर्मनिरपेक्षता, भड़की भाजपा
चतरा
सिक्के नहीं लेने वाले दुकानदारों या प्रतिष्ठानों पर होगी कानूनी कार्रवाई
By Deshwani | Publish Date: 24/7/2017 9:49:48 AM
सिक्के नहीं लेने वाले दुकानदारों या प्रतिष्ठानों पर होगी कानूनी कार्रवाई

चतरा, (हि.स.)। सिक्के का लेन-देन नहीं करने वालों की अब खैर नहीं है | ऐसा करने वालों पर भारतीय मुद्रा का बहिष्कार करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज कराई जायेगी। ये बातें बैंक ऑफ इण्डिया चतरा के अग्रणी बैंक प्रबंधक मृणाल कुमार दास ने कही। 
सिक्के बंद होने की अफवाह के कारण चतरा जिले के कई दुकानदार सिक्के लेने में आनाकानी कर रहे हैं । दुकानदारों के द्वारा सिक्के नहीं लेने से आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । प्रत्येक दिन दुकानदार और ग्राहक बीच सिक्के के लेन-देन को लेकर तीखी नोक-झोंक हो रही है। सबसे अधिक परेशानी मजदूर वर्ग को है, जिन्हें प्रतिदिन कमाना और सामान खरीदना होता है। इस मामले की जानकारी जब जिले के अग्रणी बैंक प्रबंधक मृणाल कुमार दास से ली गई तो उन्होंने कहा कि इस अफवाह से बचाव के लिये जिला प्रशासन ने सख्त से सख्त कार्रवाई करने का निर्देश जारी किया है | 
इस संबंध में चतरा एलडीएम एमके दास ने बताया कि सिक्के बंद होने की बातें महज अफवाह हैं । रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने भी इस दिशा में कड़े निर्देश जारी किए है |
एलडीएम ने कहा कि सिक्का भारतीय मुद्रा है, जो व्यवसायी सिक्का नहीं लेते हैं उन पर प्राथमिकी दर्ज कराई जायेगी । ग्राहक इसकी शिकायत क्षेत्र के संबंधित बीडीओ, सीओ, एसडीओ और डीसी से कर सकते हैं | उन्होंने बताया कि आरबीआई के निर्देशानुसार बैंक को एक दिन में एक ग्राहक से मात्र एक सौ रुपये का ही सिक्का लेना है। इसके बावजूद कई बैंक चार से पांच सौ तक के सिक्के भी स्वीकार कर रहे हैं। जिन दुकानदारों या प्रतिष्ठानों द्वारा भारतीय मुद्रा स्वीकार नहीं की जाती है उनके खिलाफ कानूनी करवाई की जायेगी। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS