ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
बिहार
छपरा में सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर गैर संचारी रोगों को लेकर विशेष कैंप का होगा आयोजन
By Deshwani | Publish Date: 31/1/2020 8:52:55 PM
छपरा में सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर गैर संचारी रोगों को लेकर विशेष कैंप का होगा आयोजन

छपरा गैर संचारी रोग कार्यक्रम के तहत राज्य सरकार पापुलेशन बेस्ड मास स्क्रीनिंग की शुरुआत कर रही है। जिसमें 30 वर्ष से अधिक कम से कम 7% लोगों की स्क्रीनिंग करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने सभी जिलों के सिविल सर्जन को पत्र लिखकर विस्तार से दिशा निर्देश दिया है।

 
1 फरवरी से 15 मार्च तक चलेगा अभियान: 
पत्र के माध्यम से बताया गया है कि गैर संचारी रोगों की स्क्रीनिंग करने के लिए 1 फरवरी से 15 मार्च तक सभी जिलों में कैंप लगाया जाएगा। यह कैंप सभी अतिरिक्त प्राथमिक स्वस्थ्य केन्द्रों, शहरी स्वास्थ्य केन्द्रों एवं उपकेंद्रों सहित सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर लगाया जाएगा।
 
 
सभी परिवारों का फैमिली फोल्डर भरा जाएगा:
पापुलेशन बेस्ड मास स्क्रीनिंग के बेहतर क्रियान्वयन के लिए आशाएं सभी परिवारों की फैमिली फोल्डर भरेंगी. साथ ही 30 वर्ष से अधिक आयु के सदस्यों का कम्युनिटी बेस्ड एस्सेस्मेंट चेकलिस्ट(सीबीएसी) भी भरेंगी। प्रत्येक व्यक्ति का सीबीएसी प्रपत्र एक बार ही भरा जाएगा. भरे हुए प्रपत्रों(फैमिली फोल्डर एवं सीबीएसी) को आशा के द्वारा अपने कार्यक्षेत्र की एएनएम को सौंपना होगा।
 
33 लाख सीबीएसी भरने का लक्ष्य: 
सीबीएसी को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा शर्तिया ढांचा में भी शामिल किया गया है। राज्य में वर्ष 2019-20 में शर्तिया ढांचा के तहत कम से कम 32.99 लाख  सीबीएसी प्रपत्र भरने का लक्ष्य निर्धारित है। 
 
एएनएम सप्ताह में न्यूनतम 75 लोगों की गैर संचारी रोगों की करेगी जाँच  : 
कैंप के दौरान 30 वर्ष से अधिक लोगों की मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप जैसे अन्य गैर संचारी रोगों की जाँच की जाएगी। इसके लिए एएनएम की भूमिका अहम होगी. एएनएम सभी विवरण को एंड्राइड टेबलेट से एनसीडी एप्लीकेशन में प्रविष्टी कर संबंधित व्यक्तियों की गैर संचारी रोगों की स्क्रीनिंग करेगी। जिसमें व्यक्ति का उच्च रक्तचाप एवं मधुमेह की जाँच भी एएनएम ही करेगी। एनएनएम को सप्ताह में न्यूनतम 75 लोगों की गैर संचारी रोगों की स्क्रीनिंग करने की जिम्मेदारी दी गयी है। स्क्रीनिंग के बाद संदेहास्पद रोगियों को निकटतम अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र या प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर बीमारी की पुष्टि एवं उपचार के लिए भेजा जाएगा। 
 
 
प्रति व्यक्ति स्क्रीनिंग होने पर आशा को 10 रूपये की प्रोत्साहन राशि:
अभियान के दौरान आशा को उसके कार्यक्षेत्र के सीबीएसी प्रपत्र भरे व्यक्ति की स्क्रीनिंग होने पर 10 रूपये प्रति व्यक्ति स्क्रीनिंग दी जाएगी। जिला स्तरीय निर्धारित कार्ययोजना के अनुरूप प्रस्तावित अभियान का अनुश्रवण एवं मूल्यांकन सिविल सर्जन की अध्यक्षता में गठित टीम के द्वारा होगा। जिसमें जिला गैर संचारी रोग पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, जिला योजना समन्वयक एवं जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी शामिल रहेंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS