ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
बिहार
छपरा में वैक्सीन की बेहतर प्रबंधन व रख-रखाव को लेकर कोल्ड चैन हेंडलर को दी गयी ट्रेनिंग
By Deshwani | Publish Date: 14/12/2019 2:17:07 PM
छपरा में वैक्सीन की बेहतर प्रबंधन व रख-रखाव को लेकर कोल्ड चैन हेंडलर को दी गयी ट्रेनिंग

छपरा जिला प्रतिरक्ष कार्यालय में एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें जिले के सभी कोल्ड चैन हेंडलर को वैक्सीन की बेहतर प्रबंधन व रख-रखाव को लेकर प्रशिक्षण दिया गया। डीआईओ डॉ. वीरेंद्र चौधरी ने बताया कि प्रत्येक प्रखंड के दो-दो एएनएम को कोल्ड चेन हेंडलर के रूप में नामित किया गया है। जिससे टीके की बेहतर प्रबंधन के लिए ट्रेनिंग दी जा रही है। ईविन के रिजनल हेड संतोष कुमार व गोपालगंज भीसीसीएम के द्वारा ट्रेनिंग दिया गया। डीआईओ ने बताया कि सभी सरकारी अस्पतालों में वैक्सीन  को सुरक्षित रखने के लिए कोल्ड चेन का निर्माण किया गया है। कोल्ड चेन में वैक्सीन के लिए जरूरी तापमान बनाए रखने के लिए नियमित निगरानी की भी जरूरत होती है। वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क (ईविन)  से सदर अस्पताल सहित पीएचसी के कोल्ड चेन प्वाइंट को जोड़ा गया है। इस इविन सिस्टम में एप्प के माध्यम से वैक्सीन के तापमान एवं  गुणवत्ता आदि पर नजर रखी जा रही है। जीपीएस से वेक्सिन के कोल्ड चेन मेंटेनेंस सहित अन्य जानकारियां भी आसानी से मिल रही है। इस मौके पर जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. वीरेंद्र कुमार चौधरी, ईविन के रिजनल हेड संतोष कुमार, यूनिसेफ के एसएमसी आरती त्रिपाठी, रवि कुमार समेत अन्य शामिल थे। 

 
 
वैक्सीन की होती है ऑनलाईन मॉनिटरिंग:
 ईविन मोबाइल एप्लिकेशन से सभी कोल्ड चेन में उपलब्ध वैक्सीन की ऑनलाइन मोनिट्रिंग की जा रही है। साथ ही इससे टीके की गुणवत्ता पर भी नजर राखी जा जाती है। टीके के सुरक्षित भंडारण के लिए नियत तापमान की जरूरत होती है। नियत तापमान में कमी या वृद्धि के कारण टीके के ख़राब होने की संभावना बढ़ जाती है। लेकिन इस एप की मदद से यह कार्य आसान हो गया है। अब कोल्ड चेन में नियत तापमान में कमी या वृद्धि होने पर अलार्म बजने लगता है। साथ ही इसकी सूचना एप के जरिये कोल्ड चेन प्रबंधक से लेकर जिला प्रतिरक्षण अधिकारी एवं यूनिसेफ के जिला अधिकारी को भी प्राप्त हो जाती है।    
      
 
ऐसे काम करता है इविन :  
कोल्ड चेन में  टीके रखने के डीप फ्रीजर में थर्मामीटर लगाए हुए हैं। ऐसे में फ्रीजर के बंद या खराब होने पर इसकी जानकारी संबंधित स्टाफ के पास चली जाती है। फ्रीज का तापमान 2 से 8 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा जाने पर मोबाइल से मैसेज व अलार्म बजने लगता है। ऐसे में तुरंत स्टाफ जाकर टीके को देख लेता है और उसे खराब होने से बचा लिया जाता है।
 
 
स्टॉक की जानकारी हो रही अपडेट :
कोल्ड चेन स्टाफ को टीके की मॉनिटरिंग सिस्टम के लिए स्मार्ट फोन और एक जीबी का डाटा प्लान दिया गया है। वह इविन नेटवर्क की एप के जरिए टीके के स्टॉक को अपडेट करते हैं। इससे आरसीएचओ और जिला कोल्ड चेन मैनेजर को इविन वेबसाइट पर वैक्सीन की करेंट स्टॉक की जानकारी मिल जाती है। साथ ही विकसित किए गए एडवांस एप से कहां कितनी वेक्सिन है, वेक्सिन का रख-रखाव कैसा हुआ है यह भी जीपीएस से स्वचालित तौर पर अपडेट होता है। इसकी रिपोर्ट भी जिला स्तरीय पदाधिकारी को नियमित तौर पर प्राप्त होती है। इससे कोल्ड चेन में रखी दवा की एक्सपायरी भी जानने में आसानी हो रही है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS