ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
बिहार
आंखों के ऑपरेशन की होगी मुफ़्त सुविधा उपलब्ध, नहीं जाना होगा जिले से बाहर
By Deshwani | Publish Date: 16/8/2019 9:49:09 PM
आंखों के ऑपरेशन की होगी मुफ़्त सुविधा उपलब्ध, नहीं जाना होगा जिले से बाहर

छपरा मोतियाबिंद व अन्य आंख की बीमारियों से ग्रसित रोगियों को अब छपरा से बाहर जाने की कोई  आवश्यकता नहीं पड़ेगी। आंखों के बीमारियों का इलाज और ऑपरेशन की सेवा सदर अस्पताल में शुरू होने जा जा रहा है। इसकी योजना तैयार हो गयी है। इसको लेकर अस्पताल प्रशासन  ने खर्च का ब्योरा राज्य सरकार को भेज दिया है।  

 
डॉक्टरों व  टेक्निशियन की होगी पोस्टिंग:
 
सदर अस्पताल में डॉक्टरों व टेक्निशियन की जरूरत भी जल्द पूरी कर ली जाएगी। इस पर लगभग 20  लाख रुपये खर्च किये जाएंगे। जिला स्वास्थ्य समिति को इससे अवगत कराया गया है। कुछ  मशीन पहले से उपलब्ध है अन्य जरूरी उपकरणों की सूची राज्य सरकार को भेजी गई है। 
 
आंख के ऑपरेशन के लिए अब बाहर जाने की जरूरत नहीं:
 
अस्पताल में ऑपरेशन की व्यवस्था नहीं होने के कारण आंख के रोगी ऑपरेशन के लिए छपरा से बाहर जाते है, लेकिन अब जल्द ही ऑपरेशन की  सेवा सदर अस्पताल में ही शुरू होगी। इसको लेकर अस्पताल प्रशासन की ओर से तैयारी शुरू कर दी गयी है। 
 
प्रति दिन 600 से 700 मरीज आते हैं:
 
सदर अस्पताल में प्रतिदिन पूरे जिले से 600 से 700 के बीच मरीज इलाज के लिए पहुंचते हैं। जिनमें आंख से संबंधित बीमारियों के मरीजों की संख्या भी अधिक होती है। अस्पताल में ऑपरेशन की सेवा नहीं मिलने के कारण या तो वे छपरा के आसपास वाले जिले में इलाज के लिए जाते हैं या किसी दूसरे राज्य की सेवा लेते हैं। आंख के रोगी नि:शुल्क ऑपरेशन की सेवा देने वाले समाजसेवी संस्थानों के इंतजार में रहते हैं और कहीं कैंप लगते ही अपना इलाज कराते हैं।
 
अस्पताल प्रशासन ने किया  स्थल का चयन:
 
सदर अस्पताल में आंखों की ऑपेरशन के लिए ओटी के स्थल का चयन कर लिया गया है। अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड के दूसरी मंजिल पर ऑपेरशन थिएटर का निर्माण कराया जा रहा है। जहां पर सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। इसमे डॉक्टर चैंबर व ओटी का निर्माण कराया जा रहा है।
 
मरीजों को होगी सहूलियत:
आंखों की समस्या के तहत सदर अस्पताल में रोजाना करीब 200 से 250 मरीज पहुंचते हैं। वहीं नेत्र विशेषज्ञों की कमी होने की वजह से सभी मरीजों को समय से इलाज नहीं मिल पाता है। हालांकि एडवांस मशीनों के चलते विशेषज्ञों को इलाज में कम समय लगेगा। साथ ही ज्यादा से ज्यादा मरीजों को इलाज मिल सकेगा। 
 
 
जिला सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया आंखों के बीमारियों का इलाज और ऑपरेशन की सेवा सदर अस्पताल में शुरू होने जा जा रहा है।इसकी योजना तैयार हो गयी है। इसको लेकर अस्पताल प्रशासन ने खर्च का ब्योरा राज्य सरकार को भेज दिया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS