ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
छपरा
सावधान! जिसे भिखारी समझ रहे वे हो सकते अपराधी, दिन में भीख, रात में ट्रेनों में लूटपाट
By Deshwani | Publish Date: 21/8/2018 12:42:44 PM
सावधान! जिसे भिखारी समझ रहे वे हो सकते अपराधी, दिन में भीख, रात में ट्रेनों में लूटपाट

 

 
छपरा। गणपत आर्यन। देशवाणी।

सावधान! आप जिसे भिखारी समझकर दान कर रहे हैं, वह अपराधी भी हो सकता है। जी हां। यह बात सौ फीसदी सच है। हाल की घटनाओं में जो सच सामने आयी है, वह काफी चौंकाने वाली है। चलती ट्रेनों में हाल के महीने में कई लूट व चाकूबाजी घटना हुई है जिसमें संलिप्त अपराधियों का सच जानकर पुलिस भी दंग रह गयी। पकड़े गये सभी अपराधी दिन में ट्रेनों में व शहर के चौक चौराहे पर भीख मांगने का काम करते हैं। हद तो, तब हो गयी, जब अपराधियों को वैसी जगह से पकड़ा गया, जो भिखारियों की बस्ती है। 
 
-भिखारियों की बस्ती बनी अपराधियों की शरण स्थली

छपरा शहर के राजेन्द्र स्टेडियम के बगल में कुष्ठ बस्ती है। जिसमें रहने वाले अधिकांश लोग भीख मांगकर गुजर बसर करते हैं, लेकिन हाल के महीने में कई घटनाओं में संलिप्त अपराधियों को भिखारियों की कुष्ठ बस्ती से गिरफ्तार किया गया। रेल डीएसपी मो तनवीर का भी कहना है कि ट्रेनों में भिखारी के रूप में घुमने वालों का नया चेहरा सामने आया है। भीख मांगने के बहाने ट्रेनों में घुमने वालों ने हाल के महीने में कई वारदातों को अंजाम दिया है। जिसके बाद से पुलिस की नजर भिखारियों पर कड़ी हो गयी है

केस स्टडी- 1

6 अगस्त  की रात में छात्र को चाकू मारकर लूटपाट की घटना को अंजाम दिया गया। इस घटना में शामिल एक अपराधी मौके पर पकड़ा गया। उसी की निशानदेही पर दो अन्य अपराधियों को भिखारियों की बस्ती से गिरफ्तार किया गया। इन अपराधियों ने गोपालगंज जिले के बैकुंठपुर थाना क्षेत्र के यादोपुर गांव के छात्र को चाकू मारकर मोबाइल लूटा गया और एक हजार रुपये लूट लिया गया। गिरफ्तार अपराधी नवी हसन उर्फ मुन्ना बताया गया है।

केस स्टडी- 2

इसी कुष्ठ बस्ती से दो माह पहले दो अपराधियों को गिरफ्तार किया गया था। दोनों अपराधियों ने श्यामचक रेलवे क्रासिंग के पास डाउन इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन में लूट पाट की घटना को अंजाम दिया था और यात्री को चाकू मारकर घायल कर दिया था। अपराधियों ने यात्री से 24 हजार रुपये तथा मोबाइल लूट लिया थे। इस मामले में दोनों अपराधियों को जीआरपी ने कुष्ठ बस्ती से गिरफ्तार किया था।

दिन में मांगते है भीख रात में करते हैं लूटपाट

कुष्ठ बस्ती में रहने वाले कुछ ऐसे भी भिखारी हैं जो दिन में दिखाने के लिए भीख मांगते है और रात में लूट पाट की घटनाओं को अंजाम देते हैं। लूट पाट करने के बाद कुष्ठ बस्ती में जाकर छिपते हैं। ऐसा पुलिस से बचने के लिए करते हैं। कुष्ठ बस्ती में रहने वाले अपराधी मुख्य रूप से रेलवे क्रासिंग के आस-पास और शहर की सुनसान जगहों पर आपराधिक घटनाओं को अंजाम देते हैं और रेलवे क्रासिंग पर खड़ी होने वाली ट्रेनों में लूटपाट करते हैं।

कई भिखारी जा चुके हैं जेल

राजकीय रेलवे पुलिस ने 6 अगस्त को नवी हसन उर्फ मुन्ना समेत तीन अपराधियों को कुष्ठ बस्ती से गिरफ्तार कर जेल भेजा था। नवी हसन उर्फ मुन्ना के भाई अली हसन पर भी लूटपाट का आरोपी है। जिसे पहले ही जेल भेजा जा चुका है। इस बस्ती के अपराधी शमशेर को भी ट्रेन डकैती के आरोप में गिरफ्तार कर पहले जेल भेजा जा चुका है।

कई शहरों से जुड़े है अपराधियों के तार

छपरा शहर के राजेंद्र स्टेडियम के पास कुष्ठ बस्ती में शरण लेने वाले अपराधियों का कई शहरों से तार जुड़ा हुआ है। यहां लगातार कई घटनाओं को अंजाम देने के बाद दूसरे शहरों में जाकर शरण लेते हैं।
आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के बाद वह अपना स्थान बदल देते हैं। छपरा के अलावा, वाराणसी, गोरखपुर, मुजफ्फरपुर में भी जाकर अपराधी पनाह लेते हैं और दूसरे स्थानों पर आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के बाद यहां आकर पनाह लेते हैं।

मामूली रकम के लिए मार देते हैं चाकू 
कुष्ठ बस्ती में रहने वाले सक्रिय अपराधी मामूली रकम व छोटे छोटे सामान की लूटपाट के दौरान चाकू मारकर घायल कर देते हैं। अब तक इस क्षेत्र में सक्रिय एक दर्जन से अधिक अपराधियों को गिरफ्तार भी किया गया है। गिरफ्तार इन सभी अपराधियों की उम्र 18 वर्ष से 25 वर्ष के बीच है। महज एक मोबाइल फोन तथा एक हजार रुपये की खातिर अपराधियों ने 6 अगस्त को एक छात्र को चाकू मारकर घायल कर दिया। यह महज संयोग है कि छात्र की जान बच गयी। अपराधियों ने छात्र की गर्दन पर चाकू से हमला किया था। इस घटना को अंजाम देने वाले सभी अपराधियों की उम्र 25 वर्ष से कम ही है। दो माह पहले भी  छपरा जंक्शन के पश्चिम श्यामचक रेलवे क्रासिंग के पास डाउन इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी को चाकू मारकर लूट पाट की गई। लूटपाट का विरोध करने पर चाकू मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया था।


क्या कहते हैं रेल डीएसपी

ट्रेनों में भिखारी के रूप में घुमने वालों का नया चेहरा सामने आया है। भीख मांगने के बहाने ट्रेनों में घुमने वालों ने हाल के महीने में कई वारदातों को अंजाम दिया है। जिसके बाद से पुलिस की नजर भिखारियों पर कड़ी हो गयी है और वैसे भिखारियों को चिन्हित किया जा रहा है और कार्रवाई की जा रही है।

मो तनवीर 
रेल पुलिस उपाधीक्षक 
सोनपुर

 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS