ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
छपरा
डीपीएम से बिना स्वीकृति जिला स्वास्थ्य समिति ने निकाला टेंडर
By Deshwani | Publish Date: 10/1/2018 1:21:40 PM
डीपीएम से बिना स्वीकृति जिला स्वास्थ्य समिति ने निकाला टेंडर

छपरा  (हि.स.)। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के लिए उपकरणों का क्रय करने के लिए जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम से बिना स्वीकृति आदेश के ही टेंडर निकाल दिया है। जिला स्वास्थ्य समिति की शासी निकाय से यह प्रस्ताव पारित नहीं कराया गया था, इतना ही नहीं टेंडर में निवेदन पत्र जमा करने की तिथि को लेकर भी विरोधाभास है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के लिए उपकरणों का क्रय करने के लिए निकाले गए टेंडर में दो अलग अलग तिथि हैं। जिला स्वास्थ्य समिति की नोटिस बोर्ड पर जारी सूचना में लिखा गया है कि इच्छुक फर्म व एजेंसी 23 जनवरी तक डाक से टेंडर जमा कर सकते हैं और विस्तृत जानकारी के लिए जिला स्वास्थ्य समिति की वेबसाइट पर विजिट करें। वेबसाइट पर लिखा गया है कि इच्छुक फर्म व एजेंसी के द्वारा निबंधित डाक से निविदा 25 जनवरी तक जमा कर सकते हैं जिसे 27 जनवरी को खोला जाएगा। 
जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम पर अनियमितता को लेकर काफी दिनों से विवादों में घिरे हुए हैं। हालही में आउटसोर्सिंग एजेंसियों के चयन में अनियमितता बरतने के मामले में भी उन्हें दोषी पाया गया है। जिसको लेकर डीपीएम के खिलाफ व्यवहार न्यायालय छपरा के अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सप्तम) के न्यायालय में मुकदमा चल रहा है। इस प्रकरण में जांच के दौरान प्रमंडलीय आयुक्त नर्वदेश्वर लाल ने डीपीएम को दोषी करार दिया है। 
जिलाधिकारी हरिहर प्रसाद ने बताया कि अगर टेंडर की प्रक्रिया नियमानुसार नहीं की गई तो, इसकी जांच कराई जाएगी। साथ ही इसके लिए दोषी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में सिविल सर्जन से रिपोर्ट तलब की जा रही है। 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS