ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
छपरा
दो दिवसीय नाट्य कला मंचन का किया गया आयोजन
By Deshwani | Publish Date: 30/10/2017 10:01:40 AM
दो दिवसीय नाट्य कला मंचन का किया गया आयोजन

छपरा, (हि.स.)। इटवा पंचायत के रहमपुर गांव में दो दिवसीय नाट्य कला का मंचन किया गया। दो दिनों का नाट्य रवि षष्टि नाट्य कला कुंज समिति द्वरा प्रस्तुत किया गया। मंच का उद्घाटन मुख्य अतिथि गरखा विधायक सह पूर्व मंत्री बिहार सरकार के भूतत्व एवं खनन मुनेश्वर चौधरी , प्रखंड प्रमुख अजय महतो, उपप्रमुख देवी लाल राय ने संयुक्त रूप से फीता काटकर किया। 
पन्नलाल मांझी ने प्रखंड प्रमुख अजय महतो को सम्मानित किया। छठ पूजा के बाद होने वाले इस महोत्सव का आयोजन 26 वर्षों से परम्परागत रूप से किया जा रहा है। रवि षष्टि नाट्य कला कुंज समिति की बाल कलाकारों द्वारा दहेज प्रथा,बाल विवाह तथा शराब बंदी पर आधारित नृत्य नाटक की प्रस्तुति बाल कलाकारों ने की। एक नई कहानी पर आधारित नाटक 'बबूनी के शादी' तथा 'प्रतिज्ञा' को ग्रामीण दर्शकों, श्रोताओ ने काफी पसंद किया। नाटक के मुख्य पात्रों में रामबोध मांझी, समसाद आली ,अरविंद शाह, कैलेश शाह, दिलीप कुमार, संभु मांझी आदि की भूमिका को सराहा गया । 
 
निर्देशन अशोक कुमार मांझी ने किया । निर्माता निखिल प्रताप सिन्हा थे । दो दिवसीय नाट्य में प्रतिज्ञा ओर बबूनी के शादी को रहमपुर के बाल कलाकारों ने नृत्य के माध्यम से वर्तमान दौर में समाज में दहेज जैसी कुप्रथा पर करारा चोट किया गया। दहेज के लिए एक पिता को इतना मजबूर किया जाता है कि उसकी बेटी को मजबूरन आग लगा लेनी पड़ती हैं। जिस पिता के पास लड़की होती है तो, उसे समाज में आज भी किस नजरिए से देखा जा रहा है और किस तरह की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है, यह रेखांकित किया गया। इस अवसर पर महेश्वर चौधरी, अर्जुन राय ,कृष्णा ठाकुर ,जितेंद्र मांझी ,धनंजय साह, राजेश्वर राय, डॉ सुरेंद्र प्रसाद यादव आदि लोग मौजूद रहे। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS