ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
बिहार
इंसेफलाइटिस फैलने की आशंका के मद्देनजर अलर्ट घोषित
By Deshwani | Publish Date: 26/7/2017 7:16:38 PM
इंसेफलाइटिस फैलने की आशंका के मद्देनजर अलर्ट घोषित

 छपरा, (हि.स.)। पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के बलिया समेत कई जिलों में इंसेफलाइटिस के जारी कहर के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट घोषित कर दिया है और बाहर से आने वाले सभी मरीजों की विशेष जांच के निर्देश दिए गए हैं। सदर अस्पताल से लेकर जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, रेफरल अस्पतालों तथा अनुमंडलीय अस्पतालों में इंसेफलाइटिस के मरीजों के लिए अलग वार्ड बनाने तथा जांच एवं उपचार की विशेष व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है । बलिया जिले के रेवती थाना क्षेत्र के छह मरीजों के इंसेफलाइटिस की आशंका पर भर्ती कराया गया लेकिन उनमें कालाजार का लक्षण पाया गया है और कालाजार का इलाज किया जा रहा है । इसको लेकर आमजनों के बीच जागरूकता अभियान भी शुरू कर दिया गया है और सभी आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी सेविकाओं को इस कार्य में लगाया गया है । हालांकि इस वर्ष अब तक जिले में दो मरीजों के इंसेफलाइटिस होने की सूचना है जिसमें से जून माह में इलाज के दौरान एक मरीज की मौत हो गयी । इसी तरह पिछले वर्ष जिले में इंसेफलाइटिस के 15 मरीज मिले थे जिसमें से एक मरीज जापानी इंसेफलाइटिस के शिकार था । पिछले वर्ष जिले के चार मरीजों की मौत इलाज के दौरान पीएमसीएच में हो गयी थी । 

दवा- जांच व उपचार का प्रबंध 
सदर अस्पताल से लेकर जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, रेफरल अस्पतालों तथा अनुमंडलीय अस्पतालों में जांच तथा उपचार का प्रबंध किया गया है और विशेष परिस्थितियों में इंसेफलाइटिस तथा जापानी इंसेफलाइटिस के शिकार मरीजों को मेडिकल कॉलेज अस्पताल तक पहुंचाने के लिए निःशुल्क एम्बुलेंस की सुविधा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है । इसके लिए अलग से दवा उपलब्ध कराया गया है और जांच कीट दिया गया है। 
बरतें सावधानी 
- घरों में तथा बाहरी परिसर की सफाई का रखें ख्याल 
- घरों के आस-पास जल जमाव न होने दें 
- नाला का गंदा पानी जमा नहीं होने दें 
- सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें 
- तेज बुखार के साथ बेहोशी होने पर मरीज को तुरंत अस्पताल में भर्ती कराये 
क्या कहते हैं अधिकारी
सदर अस्पताल में इंसेफलाइटिस तथा जापानी इंसेफलाइटिस के मरीजों के लिए अलग से वार्ड बनाया गया है और मरीजों की जांच व उपचार का प्रबंध किया गया है । 
डा शंभू नाथ सिंह 
उपाधीक्षक, सदर अस्पताल,छपरा 
क्या कहते हैं अधिकारी 
जापानी इंसेफलाइटिस तथा इंसेफलाइटिस के मरीजों की इलाज के लिए सभी सरकारी अस्पतालों में जांच, उपचार व दवा का प्रबंध किया गया है । पूरे जिले में एलर्ट घोषित कर दिया गया है और बाहर से आने वाले मरीजों की विशेष जांच के निर्देश दिए गए हैं । 
डा बीके श्रीवास्तव 
जिला मलेरिया पदाधिकारी,सारण, छपरा
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS