ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
बिहार
लवली आनंद की चुनाव याचिका पर हाईकोर्ट में सुनवाई रही अधूरी
By Deshwani | Publish Date: 1/7/2017 8:24:48 PM
लवली आनंद की चुनाव याचिका पर हाईकोर्ट में सुनवाई रही अधूरी

पटना,  (हि.स)। शिवहर विधनसभा क्षेत्र के लिए 2015 में हुए चुनाव में पराजित ‘हम’की उम्मीदवार पूर्व सांसद लवली आनंद की ओर से दायर चुनाव याचिका पर शनिवार को पटना उच्च न्यायालय में सुनवाई अधूरी रही। अब इस मामले की पुनः सुनवाई 4 जुलाई को होगी।

न्यायाधीश मुंगेश्वर साहू की एकलीठ ने लवनी आनंद की ओर से दायर चुनाव याचिका पर सुनवाई की। मतगणना में करीब 461 वोटों लवली आनंद जदयू के मो. सरफुद्दीन से पराजित हो गयी थीं । चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए पराजित उम्मीदवार लवनी आनंद ने पटना उच्च न्यायालय में चुनाव याचिका दायर की थी। याचिका में बताया गया था कि इस चुनाव में अनेक प्रकार की धांधली हुई। जदयू नेता के घर के सामने बूथ संख्या 66 और 67 था, जिसे हटाया जाना चाहिए था। याचिका में यह भी कहा गया कि इसकी शिकायत उन्होंने चुनाव पदाधिकारियों से भी की थी। परंतु उसपर सुनवाई नहीं हुई जिसके फलस्वरूप विजयी उम्मीदवार ने बूथ कैपचर कर अपने पक्ष में मतदान करा लिया और वे पराजित हुई।
अदालत को यह भी बताया गया था कि जहां हजार-हजार वोटर थे। वहां जदयू के प्रत्याशी के पक्ष 890 एवं 865 वोट मिले, जबकि वोट के इतने प्रतिशत होने पर अवैध घोषित करने का प्रावधान है। अन्य मतदान केन्द्र संख्या 50 एवं 51 पर चार घंटे विलंब से मतदान हुआ। वहां वोटरों को मारपीट कर भगा दिया गया। उनके अनुसार, स्थानीय प्रशासन के लोगों ने घर में घुस कर पब्लिक के साथ मारपीट की। इसके अलावा अन्य प्रकार की धांधली का आरोप लगाया गया। शनिवार को इस मामले में सुनवाई हुई। जिसमें गवाह ने अदालत को बताया कि उसके बूथ पर सुबह में बम फोड़ा गया, उसके बाद दिनभर एक भी मतदाता उस बूथ पर भय के कारण अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं किया। जबकि इस बूथ पर लवली आनंद के समर्थकों की संख्या काफी अधिक थी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS