ब्रेकिंग न्यूज़
उड़ीसा में महिलाओं और बच्चों से संबंधित मामलों की सुनवाई के लिए बनाए जाएंगे 45 नई फास्ट ट्रैक अदालतेंअब हम उन्हें चाचा नहीं बल्कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कहेंगे: तेजस्वी यादववेडिंग एनिवर्सरी पर अनुष्का-विराट हुए रोमांटि‍क, शेयर की ये बेहद रोमांटिक तस्वीरअब हम उन्हें चाचा नहीं बल्कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कहेंगे: तेजस्वी यादवबेतिया में यौन शोषण के उपरान्त शादी के दवाब पर अरमान ने रोबिना को जलायारक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा की आतंकवाद को अपनी कार्य नीति का हिस्सा बना लिया पाकिस्तानसरकार अर्थव्‍यवस्‍था को फिर से पटरी पर लाने के लिए और उपाय कर रही: निर्मला सीतारमन्कुशीनगर में बुद्ध महापरिनिर्वाण मंदिर के समीप नया गेट बनवाने पर कई अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज
बिज़नेस
मंदी को लेकर डीबीएस बैंक का बड़ा अनुमान, दूसरी छमाही में बनी रह सकती है आर्थिक सुस्ती
By Deshwani | Publish Date: 25/11/2019 2:41:15 PM
मंदी को लेकर डीबीएस बैंक का बड़ा अनुमान, दूसरी छमाही में बनी रह सकती है आर्थिक सुस्ती

नई दिल्ली। भारत की आर्थिक वृद्धि दर में आने वाले महीनों में खपत क्षेत्र की कमजोरी के चलते दूसरी छमाही के दौरान आर्थिक सुस्ती और गहरा सकती है। सिंगापुर के डीबीएस बैंक ने सोमवार को यह अनुमान व्यक्त किया। डीबीएस ने अपनी दैनिक आर्थिक रिपोर्ट में कहा कि रियल जीडीपी दूसरे क्वाटर में पहले  क्वाटर के पांच फीसदी से कम 4.3 प्रतिशत रहने की संभावना है।

 
डीबीएस ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि महत्वपूर्ण खपत क्षेत्र में कमजोरी और निजी क्षेत्र की गतिविधि में फिलहाल विस्तार न किए जाने की संभावना इसकी मुख्य वजह है। रिपोर्ट के अनुसार नई परियोजनाओं की घोषणा की रफ्तार कई साल के निम्न स्तर पर पहुंच गई है। दूसरी तरफ मध्यवर्ती और पूंजीगत सामानों, टिकाऊ उपभोक्ता क्षेत्र की कमजोर मांग की वजह से उत्पादन की रफ्तार भी धीमी पड़ी है। हालांकि व्यापार की यदि बात की जाये तो निर्यात की सुस्ती के साथ गैर-तेल और गैर- स्वर्ण आयात की गिरावट से संतुलन बना रह सकता है। जुलाई- सितम्बर तिमाही के जीडीपी वृद्धि के आंकड़े इसी सप्ताह जारी होने हैं।
 
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की सर्वेक्षण रिपोर्टों में आय और रोजगार की स्थिति को लेकर उपभोक्ता धारणा में गिरावट का रुख परिलक्षित होता है। प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर संग्रह भी मांग में कमी को दर्शाते हैं। बैंकों और गैर- बैंकिंग क्षेत्र में रिण वृद्धि भी पहले के मुकाबले धीमी पड़ी है। बैंकों ने कर्ज देने के मामले में छानबीन और दस्तावेजों की पड़ताल में सख्ती बरतनी शुरू की है। 
 
रिपोर्ट में कहा गया है कि स्थिति में संतुलन लाने के प्रयासस्वरूप वर्ष के शुरुआती महीनों में आम चुनाव की वजह से खर्च आवंटन धीमा रहने के बाद अब वित्तीय खर्च में तेजी आ सकती है। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार आगामी 29 नवम्बर को सितम्बर तक की जीडीपी के आंकड़े जारी करेगी। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS