ब्रेकिंग न्यूज़
वरुण धवन के बाद फिल्म 'स्ट्रीट डांसर 3डी' के सेट पर घायल हुईं श्रद्धा कपूरट्रॉमा सेंटर की चौथी मंजिल से मां ने अपने शिशु को नीचे फेंका, मौतएयर इंडिया की परिचालन से बाहर 17 विमानों को अक्टूबर से पुन: उड़ाने की योजनाशेयर बाजार: सेंसेक्स, निफ्टी में लगातार चौथे कारोबारी सत्र में गिरावटदिल्ली से वाशिंगटन तक भारत ने बनाया दबाव, कश्मीर पर व्हाइट हाउस ने ट्रंप के बयान को पलटायोगी सरकार ने विधानसभा में पेश किया वित्तीय वर्ष 2019-2020 का पहला अनुपूरक बजटअखिलेश के दावे को रविकिशन ने किया खारिज, बोले-नहीं मिला यश भारती सम्मानदस एकड़ जमीन हथियाने के लिए चाचा ने करायी थी भतीजे की हत्या,पुलिस जांच में हुआ खुलासा
बिज़नेस
भारतीय रेल के निजीकरण पर केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल का बयान, कहा- कोई प्रस्ताव नहीं
By Deshwani | Publish Date: 11/7/2019 3:19:50 PM
भारतीय रेल के निजीकरण पर केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल का बयान, कहा- कोई प्रस्ताव नहीं

नई दिल्ली। केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि निजी कंपनियों के हाथों चलाने के लिए अभी तक किसी भी विशिष्ट यात्री गाड़ी की पहचान नहीं की गई है। गोयल ने लोकसभा में यात्री रेलगाड़ियां चलाने के लिए निजी कंपनियों की सेवाएं लेने संबंधी एक लिखित सवाल के जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, बहरहाल यात्रियों को विश्वस्तरीय सेवाएं मुहैया कराने के लिए भारतीय रेल द्वारा यात्री रेलगाड़ियां चलाने के लिए निजी कंपनियों की भागीदारी सहित विभिन्न विकल्पों की जांच की जा रही है। एक अन्य सवाल के जवाब में रेलमंत्री ने कहा है कि भारतीय रेल के निजीकरण का कोई प्रस्ताव नहीं है।

 
लोक सेवाओं के व्यापक निजीकरण से गरीब वर्ग को होने वाले सबसे अधिक नुकसान संबंधी एक अन्य सवाल के जवाब में गोयल ने कहा, सितंबर 2018 में संयुक्त राष्ट्र महासभा को प्रस्तुत की गई रिपोर्ट में मानवाधिकारों की सुरक्षा के लिए बड़े पैमाने पर होने वाले निजीकरण की चुनौतियों पर प्रकाश डाला गया है। बहरहाल, भारतीय रेल के निजीकरण का कोई प्रस्ताव नहीं है।
 
निजी कंपनियों द्वारा रेल लाइन बिछाए जाने जैसे भारी निवेश वाले कार्यों में रुचि नहीं लेने संबंधी सवाल के जवाब में रेलमंत्री ने कहा, मौजूदा भारतीय रेलवे नेटवर्क से बंदरगाहों, खानों और औद्योगिक क्लस्टरों के लिए प्रथम छोर से अंतिम छोर तक संपर्कता मुहैया कराने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) संबंधी प्रतिस्पर्धा नीति पर परियोजनाएं शुरू की गई हैं। उन्होंने बताया कि इसमें सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू), राज्य सरकार और निजी उद्योग सहित सामरिक भागीदार आगे आए हैं और संयुक्त उद्यम विशेष प्रयोजन परियोजना (एसपीवी) में निवेश किया गया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS