ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरणपुलिसकर्मी ही शराबबंदी कानून की घज्जियां उड़ा रहे हैं, दिन में ली शपथ तो रात में नशे की हालत में गिरफ्तारबसपा में परिवारवाद का नया अध्यायमहिला फुटबॉल विश्व कप: अमेरिका क्वॉर्टरफाइनल में, फ्रांस से होगा सामनाविश्व कप: ऑस्‍ट्रेलिया को पहला झटका, वार्नर 53 रन पर आउट, स्‍कोर 26 ओवर में 143 रनगढ़वा में भीषण सड़क हादसा, बस के खाई में गिरने से छह की मौत, 40 घायलपीएनबी घोटाला: हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी की एंटीगुवा की नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारतआपातकाल के 44 साल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- 'लोकतंत्र के लिए संघर्ष करनेवाले नायकों को सलाम'
बिज़नेस
एसबीआई के ये दिग्‍गज संभाल सकते हैं जेट एयरवेज की कमान, सूची में इनका नाम सबसे आगे...
By Deshwani | Publish Date: 28/3/2019 3:18:17 PM
एसबीआई के ये दिग्‍गज संभाल सकते हैं जेट एयरवेज की कमान, सूची में इनका नाम सबसे आगे...

नई दिल्ली। जेट एयरवेज की जिम्‍मेदारी संभाल रहे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) के नेतृत्‍व वाले बैंकों के समूह ने इसके प्रमुख की तलाश शुरू कर दी है। इनमें एसबीआई के पूर्व चेयरमैन अरुण कुमार पुरवार जेट एयरवेज के अंतरिम बोर्ड प्रमुख के लिए संभावित लोगों की सूची में शीर्ष पर हैं। इस पद के लिए जानकी बल्लभ और अरुंधती भट्टाचार्य के नाम भी चर्चा में हैं। ये दोनों एसबीआई के पूर्व चेयरपर्सन हैं। 

 
पुरवार के बोर्ड के प्रमुख बनने की संभावना अधिक है और वह जेट बोर्ड के दो नामितों में एक हो सकते हैं। जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल और उनकी पत्नी के सोमवार को इस्तीफा देने के बाद ये पद खाली हुए हैं। दूसरे रिक्त पद अन्य कर्जदाताओं जिसमें प्रमुख तौर पर आईडीबीआई बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और यस बैंक में से किसी एक के पास जा सकता है।
 
 
इससे पहले एसबीआई की अगुवाई में जेट एयरवेज के कर्मचारियों के बकाया वेतन भुगतान के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय से विचार-विमर्श करके एक योजना बनाई गई है। बैंकों के समूह ने अंतरिम समिति का प्रभार ग्रहण किया और कर्जदाताओं ने जेट एयरवेज एयरलाइन के तात्कालिक मसलों का समाधान करने के लिए 1,500 करोड़ रुपये की आपात राहत प्रदान की है।
 
गौरतलब है कि ईंधन की कीमत में बढ़ोतरी और भारी प्रतिस्पर्धा की वजह से जेट एयरवेज पिछले छह महीने से नकदी के संकट से जूझ रही है। कंपनी ने पट्टेदारों, हवाईअड्डा संचालकों और तेल कंपनियों के भुगतान में भी देरी की है। कंपनी को कार्यबल के हिस्से को भुगतान करने और कंपनी के संचालन को बनाए रखने में भी मशक्कत करनी पड़ी है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS