ब्रेकिंग न्यूज़
शहीद सैन्य पदाधिकारी व सैनिकों की वीर नारियों के सम्मान समारोह बिहार के राज्यपाल ने किए 92 वीर नारियों को सम्मानितनेपाल के मकवानपुर में चार बच्चों समेत आठ भारतीय पर्यटकों की मौतभाजपा नेता रवि किशन ने शाहीनबाग़ के विरोध को बताया विपक्ष की साजिश, कहा - 500 रुपये लेकर महिलाएं कर रहीं प्रदर्शनपरीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं - मोदी, परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी ले रहे भागजम्‍मू कश्‍मीर के शोपियां जिले में 3 आतंकवादी ढेर, सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ जारीतहकीकात बाद दें किराया, मोतिहारी के अंबिकानगर लॉज से पटना से अपहृत छात्र मुक्त, प्रिंस पाण्डेय समेत 5 गिरफ्तारमोतिहारी की सांस्कृतिक भूमि को उर्वरा बनानेवाले पूर्व वीसी डॉ वीरेन्द्रनाथ पाण्डेय का पटना में निधनकेन्द्र सरकार के गृह राज्यंत्री, बिहार के भाजपा अध्यक्ष व विधायक साथ रक्सौल में 47 वी बटालियन आउट पोस्ट का जायजा लिया
बिहार
मोतिहारी की सांस्कृतिक भूमि को उर्वरा बनाने वाले पूर्व वीसी डॉ वीरेन्द्रनाथ पाण्डेय का पटना में निधन
By Deshwani | Publish Date: 13/1/2020 3:45:27 PM
मोतिहारी की सांस्कृतिक भूमि को उर्वरा बनाने वाले पूर्व वीसी डॉ वीरेन्द्रनाथ पाण्डेय का पटना में निधन

मोतिहारी। बहुमुखी प्रतिभा के धनी गया यूनिवर्सिटी के पूर्व वीसी डॉ. प्रो. वीरेन्द्र नाथ पाण्डेय का पटना के आईजीएमस में निधन हो गया है। वे करीब 75 वर्ष के थे। उनके ज्येष्ठ पुत्र मशहूर तबला वादक पीटीआई के स्थानीय प्रभारी संजय पाण्डेय ने उनके निधन की पुष्टि की है। बताया कि उनका पार्थिव शरीर मोतिहारी लाया जा रहा है। वे पूर्वी चम्पारण के मलाही थाना क्षेत्र स्थित नगदाहा के साधारण किसान परिवार में पल-बढ़कर देशभर में अपनी दक्षता का लोहा मनवाया। शहर के चांदमारी चौक स्थित गुप्ता गैस के सामने डॉ प्रो पाण्डेय का निवास कला व सांस्कृतिक का केन्द्र रहा है।

 

मोतिहारी में एनएच के पास चांदीवाला आइ हॉस्पीटल की स्थापना करवाई-
डॉ प्रोफेसर पाण्डेय ने मोतिहारी के एलएनडी कॉलेज से पॉलिटिकल साइन्स के प्रोफेसर से अपने कॅरियर की शुरुआत की और गया यूनीवर्सिटी वीसी के पद तक पहुंचे। देहावसान तक ऑल इंडिया वीसी एसोसिएसन सहित कई संगठनों के उच्च पद पर आसीन रहें। इससे अलग मोतिहारी शहर में उत्कृष्ट सांस्कृतिक आयोजन कर देश के अजीम हस्तियों को अपना मुरीद बनाया। दिल्ली की पूर्व सीएम स्व शीला दीक्षित, बिहार के सीएम नीतीश कुमार व नामचीन फिल्मकार प्रकाश झा एव मनोज बाजपेयी से काफी नजदिकियां रहीं। अपने व्यक्तित्व का ग्राफ इस कदर बढ़ाया कि चांदीवाला ट्रस्ट भी मोतिहारी में आई हॉस्पीटल स्थापित करने से उन्हे मना नहीं कर सका।

देश के नामी कलाकारों को मोतिहारी बुलवाया-
उन्होंने मोतिहारी में चम्पारण सांस्कृतिक महोत्सव समिति की स्थापना की। इस संस्था के मंच पर कला व सिने जगत की देश बड़ी-बड़ी शख्सियतों को परफॉर्म करवाया। जिसमें सिने स्टार हेमा मालिनी, गजल गायक गुलाम अली, चंदन दास, अहमद हुसैन-मोहम्मद हुसैन व अनूप जलोटा सहित अनगितन फनकारों को मोतिहारी के आम  आवाम से रूबरू करवाया।
 

डॉ प्रो पाण्डेय कला प्रेमी के साथ स्वयं कलाकार साधक भी रहे। उनके गाए अंतिम गीत-

शोक की लहर-
 उनके निधन की खबर के बाद शिक्षा जगत व खासकर सांस्कृतिक एवं कला प्रेमियों में शोक की लहर व्याप्त हो गई। जिले के मशहूर सर्जन डॉ आशुतोश शरण, डॉ प्रो करमात्मा पाण्डेय व्यवसायी शंभु नाथ सीकरिया, मशहूर गायक रामचंन्द्र प्रसाद, चीनी मिल कर्मी व्यास गांगानाथ सिंह, पूर्व रेलकर्मी व लोकगीत गायक प्रमोद कुमार दुबे, उत्तर बिहार के जानेमाने म्यूजिक कंपोजर रंजन सहाय, प्रसिद्ध तबलावादक कूंदन वत्स, एलआईसी डीओ अनिल वर्मा, हिन्दुस्तान के स्थानीय प्रभारी सतीश मिश्रा, संजय ठाकुर, दैनिक जागरण के प्रभारी अनिल तिवारी, हिन्दुस्तान के स्थानीय प्रबंधक सुजीत कुमार सिंह, अरुण तिवारी, यूगान्तर प्रेस के एमडी अभिमन्यु कुमार, विनय परिहार, सचिन पाण्डेय, अमित कुमार गुड्डू, जीएम साउंड के डायरेक्टर कुमार संजय, देशवाणी के हृदयानंद कुमार, विनय कुमार सिंह, निखिल सिंह सहित कई गणमान्य लोगों ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS