ब्रेकिंग न्यूज़
'दंगल' फेम सुहानी भटनागर की प्रेयर मीट में पहुंचीं बबीता फोगाटबिहार:10 जोड़ी ट्रेनें 25 फरवरी तक रद्द,नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर रेलखंड की ट्रेनें रहेंगी प्रभावितप्रधानमंत्री ने मिजोरम के निवासियों को राज्‍य के स्‍थापना दिवस पर शुभकामनाएं दीउपराष्ट्रपति ने कहा- भारत सुषुप्‍त अवस्‍था से जागृत अवस्‍था में प्रवेश कर चुका हैमोतीहारी: गांधी कुष्ठ कॉलोनी में मरीजों के बीच खाद्य सामग्री व सफाई सामग्री के साथ-साथ कंबल का भी वितरण किया गयामहागठबंधन छोड़ नीतीश शामिल हुए एनडीए में, बिहार में बनी एनडीए की सरकारमोतीहारी: राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर महात्मा गांधी ऑडिटोरियम में नव मतदाता सम्मेलन का आयोजनउपराष्ट्रपति ने श्री हरिशंकर भाभड़ा के निधन पर शोक व्यक्त किया
बिहार
संसार में सच्ची शुचिता मन की होती है: पं० प्रकाश चंद्र जैन
By Deshwani | Publish Date: 3/9/2022 11:23:10 PM
संसार में सच्ची शुचिता मन की होती है: पं० प्रकाश चंद्र जैन

पटना जितेन्द्र कुमार सिन्हा। कदम कुआं स्थित पाटलिपुत्र दिगंबर जैन समिति परिसर में भोपाल से आये पंडित प्रकाश चंद्र जैन शास्त्री ने शनिवार को दशलक्षण पर्व के चौथे दिन   उत्तम सोच धर्म के संबंध में बताया कि संसार में सच्ची शुचिता तो मन की होती है और वह आती है उत्तम सोच धर्म से। उन्होंने कहा कि उत्तम सोच धर्म का अर्थ होता है शुद्धता यानि पवित्रता अर्थात बुरे विचारों का हमारे मन से दूर होना।

 
उन्होंने कहा कि शास्त्रों में उत्तम सोच धर्म को लोभ कषाय से जोड़ा गया है और जब तक मन से लोभ का विचार दूर नहीं होगा तब तक जीवन में उत्तम सोच धर्म नही आयेगा। इसलिए जीवन में लोभ को सभी पापों का बाप कहा जाता है।
 
 
 
 
शास्त्री जी ने कहा कि इसे साधारण शब्दों में भी देखा जाय तो लोभ शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है। लो का अर्थ  लोक या संसार से है और भ का अर्थ भ्रमण से है। इसका अर्थ हुआ "संसार के कष्टों में जो भ्रमण कराए" वह लोभ है।
 
उन्होंने कहा कि जीवन में लोभ को त्याग कर उत्तम सोच धर्म उतारने से आत्मा का कल्याण होता है और संसार के कष्टों से मुक्त होने के लिए यह आवश्यक है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS