ब्रेकिंग न्यूज़
इग्नू के दिसंबर 2019 सत्रांत परीक्षा का हॉलटिकट एडमिट कार्ड इंटरनेट पर अपलोडहरैया पुलिस ने जब्त किया भारी मात्रा में नेपाली शराब, तस्कर फरारएमओ अरविंद कुमार ने दी पीओएस मशीन के बारे में उपभोक्ताओं को जानकारीउप विकास आयुक्त एवं अपर समाहर्ता ने किया अंचल कार्यालय व पंचायत भवन कार्यालय का निरीक्षण, दिए निर्देशअखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई के प्रतिनिधिमंडल ने समस्या व अन्य विषय को लेकर बीडीओ को सौंपा ज्ञापन'बच्चन पांडे' में अक्षय के अपोजिट कृति सेनन के हिस्से में महज 2 गाने और कुछ सीन? डायरेक्टर ने खोला राजपूर्व मुखिया सत्तो यादव की गोली मार हत्या, कोसी दियारा इलाके में दहशतइलेक्टोरल बॉन्ड के मुद्दे पर लोकसभा में कांग्रेस का हंगामा, बहिर्गमन
बिहार
देश का तीसरा सबसे प्रदूषित शहर बना पटना, मुजफ्फरपुर और गया की भी हालत चिंताजनक
By Deshwani | Publish Date: 6/11/2019 2:43:13 PM
देश का तीसरा सबसे प्रदूषित शहर बना पटना, मुजफ्फरपुर और गया की भी हालत चिंताजनक

पटना। बिहार में वायु प्रदूषण के हालात गंभीर बने हुए हैं। राजधानी पटना की बात करें तो यहां की हवा दिल्‍ली से भी जहरीली हो गई है। यह देश के सर्वाधिक प्रदूषित शहरों में तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। पटना के अतिरिक्त मुजफ्फरपुर और गया की हवा में भी प्रदूषण का स्‍तर चिंताजनक हो गया है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी वायु गुणवत्ता सूचकांक में पार्टिकुलेट मैटर (पीएम 2.5) का स्तर पटना में 414 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रिकॉर्ड किया गया है। इस तरह पटना देश में सबसे अधिक वायु प्रदूषण वाले कानपुर और लखनऊ के बाद तीसरा सर्वाधिक प्रदूषित शहर बन गया है। उधर, बिहार के मुजफ्फरपुर में पीएम 2.5 स्तर 385 माइक्रोग्राम और गया में 325 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रिकॉर्ड किया गया।
 


 

वायू प्रदूषण का मानव स्वास्थ्य पर भी तेजी से असर हो रहा है। वायु प्रदूषण के कारण पटना, गया, मुजफ्फरपुर में मरीजों की संख्या दिनोंदिन बढ़ रही है। वायु प्रदूषण से बढ़ रहे मरीजों में स्कूली बच्चे व बुजुर्गों की संख्या अधिक है।

बिहार में प्रदूषण के आंकड़े पर एक नजर
बिहार में प्रदूषण के आंकड़ों की बात करें तो सर्वाधिक 30 फीसद प्रदूषण के लिए वाहन जिम्‍मेदार हैं। धूलकण से 12 फीसद तथा पुआल जलाने से सात फीसद प्रदूषण होता है। औद्योगिक प्रतिष्‍ठान भी सात फीसद प्रदूषण फैला रहे हैं। डीजल जेनरेटर पांच फीसद तो ईंट भट्ठे चार फीसद प्रदूषण के लिए जिम्‍मेदार हैं।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS