ब्रेकिंग न्यूज़
खुशखबरी : नीतीश सरकार का कर्मचारियों को तोहफा, 5 से बढ़कर 7 फीसदी हुआ महंगाई भत्तास्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस में यात्रियों से लाखों की लूट, सोनपुर-हाजीपुर के बीच दिया घटना को अंजाम'आसाराम के अनुसार ‘ब्रह्म ज्ञानियों’के लिए बलात्कार नहीं कोई पाप'शरद गुट ने ‘लोकतांत्रिक जनता दल' के नाम से बनायी नयी पार्टी, 18 मई को दिल्ली में होगा राष्ट्रीय सम्मेलन28 मई को होंगे कैराना लोकसभा और नूरपूर विधानसभा उपचुनाव, 31 मई को मतगणनाअमेरिका और भारत के बीच संबंध अभी भी मजबूत: वी के सिंहकर्नाटक चुनाव से पहले लॉन्च हुआ ईवीएम का नया मॉडल, नहीं हो सकेगी छेड़छाड़कोल्हान में नक्सलियों के कैंप ध्वस्त, सबसे लंबा ऑपरेशन खत्म, जवान बैरकों में लौटे
बिहार
रामविलास पासवान ने की न्यायपालिका में आरक्षण की मांग
By Deshwani | Publish Date: 15/4/2018 4:48:11 PM
रामविलास पासवान ने की न्यायपालिका में आरक्षण की मांग

पटना। लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भारतीय न्यायपालिका में भी आरक्षण की मांग की। उन्होंने कहा कि जब हम इसकी मांग करते हैं तो सर्वोच्च न्यायालय कहता है कि यह असंवैधानिक है। उन्होंने कहा कि इसलिए भारतीय न्यायिक सेवा की स्थापना की जानी चाहिए। पासवान ने कहा कि इसके लिए एक प्रतियोगी परीक्षा होनी चाहिए। 
 
रामविलास पासवान ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट एवं हाई कोर्ट में एससी, एसटी और ओबीसी का प्रतिनिधित्व नगण्य है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में एससी व एसटी वर्ग का एक भी जज नहीं है। इसलिए इस तबके का पक्ष सही ढंग से नहीं रखा जाता। इसके चलते न्यायिक सेवा आयोग का गठन एवं न्यायालय में आरक्षण लागू होना चाहिए। वह बाबा साहेब भीम राव आंबेडकर जयंती के मौके पर एक कार्यक्रम में  बोल रहे थे।  
 
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने एससी- एसटी एक्ट को मजबूत किया है लेकिन आरक्षण के मसले पर राजनीति की जा रही है। जबकि कांग्रेस ने बाबा साहेब आंबेडकर को अपमानित किया। इस दौरान पासवान ने बसपा सुप्रिमो मायावती पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि जब मायावती ने मुख्यमंत्री थीं तब एससी- एसटी एक्ट को निरस्त कर दिया था और अब दलित प्रेम का दिखावा कर रही हैं। इसके लिए उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS