ब्रेकिंग न्यूज़
सीतामढ़ी के मेजरगंज में शहीद हुए सब इंस्पेक्टर दिनेश राम का मोतिहारी के बरनावाघाट पर राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कारकोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाले कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती- श्री तोमरपुद्दुचेरी में प्रधानमंत्री ने कई विकास परियोजनाओं की शुरूआत कीसमस्तीपुर: एक मार्च से कोविड-19 टीकाकरण के तीसरे फेज की होगी शुरुआतमोतिहारी के कई पुलिस पदाधिकारी इधर से उधर, छतौनी के नये एसएचओ विजय प्रसाद राय व नगर थानाध्यक्ष बने विजय प्रसाद राय,जबकि मधुबन एसएचओ पर हुई कार्यवाईमोतिहारी के कई पुलिस पदाधिकारी इधर से उधर, छतौनी के नये एसएचओ विजय प्रसाद राय व नगर थानाध्यक्ष बने विजय प्रसाद राय,जबकि मधुबन एसएचओ पर हुई कार्यवाईसमस्तीपुर : भीषण सड़क हादसे में बस व बोलेरो की हुई टक्कर, बिथान की चार छात्राओं की मौत, दर्जन भर जख्मीसमस्तीपुर: हर ब्लॉक के अस्पताल में होगी एईएस व जेई के इलाज की व्यवस्था
बिहार
समस्तीपुर : चिकित्सा के क्षेत्र में देशज पद्धति को दुरुस्त करने की जरुरत
By Deshwani | Publish Date: 21/2/2021 9:09:53 PM
समस्तीपुर : चिकित्सा के क्षेत्र में देशज पद्धति को दुरुस्त करने की जरुरत

समस्तीपुर। उमेश काश्यप। शहर के काशीपुर न्यू प्रोफेसर कॉलोनी में रविवार को श्रद्धा फिजियोथेरेपी क्लिनिक एंड रिसर्च रिहेब सेंटर का शुभारंभ किया गया। 




इसका उदघाटन भाजपा के प्रदेश महामंत्री सुशील कुमार चौधरी ने फिता काटकर किया। इस दौरान आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि भारत सरकार के पूर्व मंत्री सह एमएलसी डॉ. संजय कुमार पासवान ने कहा कि आज के बदलते परिवेश में चिकित्सा के क्षेत्र में देशज पद्धति को दुरुस्त करने की जरुरत है। लोग पुरानी चिकित्सा पद्धति को भूलते जा रहे हैं। पुरानी चिकित्सा पद्धति पर ही फिजियोथेरेपी भी आधारित है। 




इसमें नये तरीके से रोगों का इलाज किया जाता है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में फिजियोथेरेपी की मांग बढ़ती जा रही है। कोविड के बाद  पूरे देश में लोग स्वास्थ्य के प्रति सजग हुए हैं। स्वागत डॉ. जय नारायण मिश्र एवं संचालन हरेराम चौधरी ने किया। मौके पर सर्जन डॉ. सुशांत, विष्णुशंकर झा, भाजपा नेता राम सुमरन सिंह, शशिकांत आनंद, शैलेंद्र सिंह, डॉ. त्रिभुवन नाथ मिश्र, बालमुकुंद मिश्र, डॉ. जेबी मिश्रा, डॉ. भीजे मिश्रा, सुशील झा आदि थे। डॉ. जेबी मिश्रा ने बताया कि फिजियोथेरेपी की मदद से पुराने से पुराने रोगों का इलाज  संभव है। आर्थोपेडिक एवं नस से संबंधित समस्याओं का समाधान  आसानी से किया जाता है। बदलते जीवन शैली में लोग तरह-तरह की बीमारी से ग्रसित हो रहे हैं। फिजियोथेरेपी में बिना किसी दवाई एवं सर्जरी के तकलीफों को दूर किया जाता है। इलाज के तुरंत बाद मरीजों को राहत भी मिलती है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS