ब्रेकिंग न्यूज़
केन्‍द्रीय शिक्षा मंत्री ने केन्‍द्रीय विद्यालय बेतिया और केन्‍द्रीय विद्यालय नम्‍बर 4 कोरबा के नवनिर्मित भवनों का उद्घाटन कियाकेंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात में नवनिर्मित थलतेज–शीलज–राचरडा रेलवे ओवरब्रिज का किया लोकार्पणसमस्तीपुर: दलसिंहसराय में आंटा मिल मालिक की गोली मारकर हत्यारक्सौल शहर के दो अस्पतालों में 80 लोगों को लगा कोविड वैक्सीन का टीकापटना: अपराधियों ने कोर्ट जा रहे मुंशी की गोली मारकर हत्या कर दीराष्ट्रीय आपदा मोचन बल(एनडीआरएफ)ने अपना 16 वां स्थापना दिवस मनायाआपका अपना घर, सपनों का घर, बहुत ही जल्द आपको मिलने वाला है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीमंत्रिमंडल ने भारत और उज्बेकिस्ताान के बीच सौर ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्तासक्षर करने की मंजूरी दी
बिहार
पटना: कोटेक महिंद्रा बैंक फर्जीवाड़े का मामला पहुंचा एसएसपी के पास, तथाकथित आरोपी के भाई ने लगाया जालसाजी का आरोप
By Deshwani | Publish Date: 12/1/2021 8:51:49 PM
पटना: कोटेक महिंद्रा बैंक फर्जीवाड़े का मामला पहुंचा एसएसपी के पास, तथाकथित आरोपी के भाई ने लगाया जालसाजी का आरोप

पटना एग्‍जीवीशन रोड स्थित कोटक महिंद्रा बैंक फर्जीवाड़े का मामला अब पटना के एसएसपी उपेंद्र शर्मा के पास पहुंच गया है। इस मामले में कथित आरोपी बनाये गए कोटेक महिंद्रा, बोरिंग रोड के शाखा प्रबंधक सुमित कुमार के भाई संतोष कुमार ने एसएसपी से मिलकर एक ज्ञापन सौंपा और न्‍याय की गुहार लगाई।  संतोष कुमार ने बताया कि उनका भाई निर्दोष है और इस वक्‍त अस्‍पताल में भर्ती है।

 
 
 
 
संतोष कुमार ने ज्ञापन के जरिये कहा कि मेरे भाई सुमित कुमार के द्वारा किसी भी तरीके का रकम फर्जी तरीके से हस्‍तांतरण नहीं करने के बावजूद भी कोटेक महिंद्रा के वरीय पदाधिकारियों ने स्‍वयं को और अपने चहेते कर्मियों को बचाने के लिए उन्‍हें फंसाने का प्रयास किया। जबकि सच्‍चाई इसके विपरीत है। दरअसल कोटेक महिंद्र बैंक के एग्‍जीवीशन रोड शाखा में जो फर्जीवाड़ा हुआ है, उसका मुख्‍य सरगना कथित बैंक के शाखा प्रबंधक अभिषेक राजा और क्षेत्रीय प्रबंधक राजकिशोर सिंह हैं, जिन्‍होंने 02 जनवरी 2021 को फर्जी RTGS फॉर्म मामले में फर्जीवाड़ा को अंजाम दिया। जबकि मेरा भाई बोरिंग रोड शाखा में है और उस दिन वहां भी मौजूद नहीं है।
 
 
 
 
ज्ञापन में संतोष कुमार ने पूरे घटनाक्रम से एसएसपी को वाकिफ करवाया और मामले की निश्‍पक्ष जांच के साथ अविलंब प्राथमिकी दर्ज कराकर कथित दोषियों की जालसाजी का पर्दाफाश करने के साथ अपने निर्दोष भाई को पूछताछ के बाद हिरसात से छोड़ने का आग्रह किया।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS