ब्रेकिंग न्यूज़
समस्तीपुर : मिथिलांचल को मिला तोहफा, जयनगर से भागलपुर तक जायगी स्पेशल ट्रेनमहिन्द्र फर्स्ट च्वाइस के मालिक मोतिहारी के पीपराकोठी में अपने ही स्कॉर्पियो में गोली लगने से घायल मिले, हुई मौतइसबार मोतिहारी की पुलिस रही मुस्तैद तो लूट नहीं सके सवा लाख रुपए, आर्म्स के साथ दबोचे गए तीनइंटरसिटी और लोकल ट्रेन का संचालन नहीं होने से यात्रियों को हो रही काफी परेशानी, रामगढ़वा में भाजपा सांसद का पुतला दहन कर स्थानीय ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शनकेंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कर्नाटक के बेंगलुरु में तीन अलग-अलग प्रकल्पों का लोकार्पण कियाभारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में दिग्गज अभिनेता और निर्देशक बिस्वजीत चटर्जी को 51वें भारतीय व्यक्तित्व पुरस्कार से किया गया सम्मानितभारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रक्सौल के दो केन्द्रों पर कोविड वैक्सीनेशन अभियान हुआ प्रारंभरक्सौल: सिमुलतला विद्यालय में ईशान ने मारी बाजी
बिहार
रक्सौल: स्वामी विवेकानंद जी की 158वीं जयन्ती समारोहपूर्वक मनाई गई
By Deshwani | Publish Date: 12/1/2021 5:50:06 PM
रक्सौल: स्वामी विवेकानंद जी की 158वीं जयन्ती समारोहपूर्वक मनाई गई

रक्सौल। अनिल कुमार। आज भारत विकास परिषद शाखा -रक्सौल द्वारा भारतीय संस्कृति एवं अध्यात्म के ध्वजवाहक युगपुरुष स्वामी विवेकानंद जी की 158वीं जयन्ती समारोहपूर्वक मनायी गयी। रक्सौल रेलवे स्टेशन स्थित पार्क में आयोजित जयन्ती समारोह में बतौर मुख्य अतिथि स्टेशन अधीक्षक अनिल कुमार सिंह एवं डीसीआई संजय कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर स्वामी विवेकानंद एवं भारत माता के तैलचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर किया। 





जयन्ती समारोह को भव्यता प्रदान करने के लिए परिषद के शिवनाथ पटेल ने क्रांतिकारी गीत गा शमां बाँधा।  स्टेशन अधीक्षक अनिल कुमार सिंह ने स्वामी विवेकानंद के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए इस बात को रेखांकित किया कि स्वामी के बारे में कुछ कहना सूर्य को दीये दिखाने के समान हैं। उन्होंने स्वामीजी के ऐतिहासिक शिकागो सम्बोधन का जिक्र करते हुए बताया है कि उनके इस अभिभाषण के बाद ही दुनिया भारत की संस्कृति एवं सभ्यता से पहली बार रूबरू हुई थी।परिषद के अध्यक्ष डॉ.राजेन्द्र प्रसाद सिंह ने स्वामी विवेकानंद के तैलचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए सभी अतिथियों का अभिनंदन करते हुए कहा कि भारत विकास परिषद पूर्ण रूप से एक स्वदेशी संगठन है तथा इसका दृष्टिकोण भी पूर्णरूपेण राष्ट्रीय है। 




इसकी कल्पना भी भारत में की गयी था तथा इसका जन्म भी स्वामी विवेकानंद जी जन्म शताब्दी वर्ष सन् 1963 में ही हुआ है।  भारत विकास परिषद स्वामी जी के बताये रास्ते एवं पदचिन्हों के आलोक में भारतीय संस्कृति एवं उन भारतीय मूल्यों से ही प्रेरणा प्राप्त करता है जिनकी रक्षा एवं उत्कर्ष के लिए स्थापना की गयी है।भारत विकास परिषद रक्सौल भी उन्हीं आदर्शों को आत्मसात कर निरन्तर सेवा कार्य में लगी है। श्री सिंह ने देश के युवाओं को उनके व्यक्तित्व से प्रेरित हो राष्ट्र की एकता , सम्प्रभुता एवं अखंडता के लिए सतत् प्रयासरत रहने के आह्वान भी किया।
 



इस मौके पर परिषद के सचिव उमेश सिकारिया , मीडिया प्रभारी रजनीश प्रियदर्शी, अवधेश सिंह , प्रो. अनिल कुमार ,पन्नालाल प्रसाद , द्वारिका सर्राफ,ध्रुव सर्राफ, प्रशान्त कुमार , नीतेश सिंह ,उषा श्रीवास्तव, सुनील कुमार , विजय कुमार साह , अजय कुमार , रवि भरतिया ,मनोज सिंह , धर्मनाथ गुप्ता , अंकेश्वर सर्राफ , शिवनाथ पटेल समेत परिषद के कई सदस्य उपस्थित थे।इसकी जानकारी परिषद के मीडिया प्रभारी रजनीश प्रियदर्शी ने दी है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS