ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में मामा ने चिकेन-राइस खिला मोबाइल चुराई, अपहरण बाद भांजे पॉलीटक्निक छात्र की हुई हत्या, फिर उसी फोन से मांगी जा रही थी रंगदारी, नाना व मामा सहित चार हिरासत मेंकोचिंग डिपो पदस्थापित एरीया मैनेजर मुकुंद बिहारी का विदाई समारोह मनाया गया, भावुक हुए लोगअनूठी पहल: रामगढ़वा ब्लॉक में चाइल्ड लाइन के सदस्यों ने चलाया दोस्ती अभियानएसएसबी 47वी बटालियन पनटोका के द्वारा युवाओं को दिया वाहन चलाने का प्रशिक्षणअनुमण्डल कार्यालय का डीएम रमण कुमार ने किया निरीक्षण7 सूत्री मांगों को लेकर निर्माण मजदूरों ने जिला समाहर्ता के समक्ष किया प्रदर्शनशेयर बाजार: लगातार चौथे दिन दूरसंचार शेयरों में तेजी, वोडाफोन-आइडिया के शेयर 32 फीसदी उछले‘पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी’ की थीम पर मनेगा पुरुष नसबंदी पखवाड़ा
बेतिया
मछली पकड़ने गये मछुआरे को मगरमच्छ ने किया बुरी तरह घायल, इलाके में दशहत का माहौल
By Deshwani | Publish Date: 9/10/2019 5:02:02 PM
मछली पकड़ने गये मछुआरे को मगरमच्छ ने किया बुरी तरह घायल, इलाके में दशहत का माहौल

बेतिया। पश्चिम चम्पारण जिला अंतर्गत बगहा पुलिस जिला के चौतरवा थाना क्षेत्र के रतवल छठिया घाट पुल के महज कुछ ही दूरी पर मंगलवार की सुबह रतवल गांव निवासी योगीन्द्र तुरहा मछली पकड़ने गये थे जिनपर मगरमच्छ ने जानलेवा हमला कर उन्हें बुरी तरह घायल कर दिया। पीड़ित द्वारा शोर मचाने पर मौजूद अन्य मछुआरों ने मगरमच्छ पर डंडे से प्रहार किया जिसको लेकर मगरमच्छ भाग निकला । पीड़ित गरीब परिवार से बताया जा रहा है ।

वहीं इस घटना की सूचना मिलते ही गाँव के लोगों में हड़कम्प मच गया। पीड़ित योगीन्द्र तुरहा ने बताया कि छठिया घाट से थोड़ी दुरी पर मछली पकड़ने के लिए जाल बिछाया था। जाल को पानी में खड़ा होकर खिंचने के क्रम में अचानक मगरमच्छ ने मेरे दोनों पैरों पर जोरदार प्रहार किया जिसमें मेरे दोनों पैर बुरी तरह जख्मी होकर लहूलुहान हो गए। पीड़ित ने यह भी बताया कि मौजूद गोपाल तुरहा, चंद्रभान तुरहा, शम्भू तुरहा, बीरबल तुरहा, सुनेशर तुरहा सहित कई मछुआरों ने मुझे घर तक पहुंचाया और मेरा प्राथमिक उपचार कराया। साथ ही परिजनों द्वारा बुधवार को बेहतर चिकित्सा हेतु अनुमंडलीय अस्पताल बगहा ले जाया गया।

मगरमच्छ हमले को लेकर गांव में मछुआरों सहित मवेशी चराने वाले लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। पीड़ित एवं मछुआरों सहित सभी ग्रामीणों ने वन विभाग के अधिकारियों से मांग करते हुए कहा है कि शीघ्र ही उक्त जगह से मगरमच्छ को पकड़ा जाना चाहिए। जिससे आगे ऐसी कोई अप्रिय घटना का शिकार नही बनें। साथ ही मछुआरे भयमुक्त होकर अपनी जीविकोपार्जन हेतु मछली पकड़ने का कार्य कर सकें।
 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS