ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
बेतिया
73वां स्वतंत्रता दिवस: बगहा स्थित एसपी कार्यालय, बिहार पुलिस बलों के कार्यालय परिसर में हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया
By Deshwani | Publish Date: 16/8/2019 6:39:21 PM
73वां स्वतंत्रता दिवस: बगहा स्थित एसपी कार्यालय, बिहार पुलिस बलों के कार्यालय परिसर में हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया

बेतिया। भारत का 73वॉ राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस पर बगहा स्थित एसपी कार्यालय, बिहार पुलिस बलों के कार्यालय परिसर में हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया। वही बगहा एसपी राजीव रंजन के द्वारा झंडातोलन की गई एवं राष्ट्रीय गान के साथ सभी जवानों ने परैड करते हुए उड़ते झंडे को सलामी दिया।

 
इस मौके पर बगहा एसपी राजीव रंजन ने ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि आज का दिन हर भारतीय के लिए काफी खास दिन है। क्योंकि ब्रिटिश शासन से भारत को आज के दिन ही आजादी मिली थी। जिस कारण हरेक वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। भारत देश का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। आज हम 73 वीं साल गिरह मना रहे हैं। 
 
उन्होंने कहा कि 15 अगस्त को मिलने वाली आजादी के लिए बड़ी कुर्बानी देनी पड़ी एवं लंबा संघर्ष करना पड़ा है। जिसमें भगत सिंह, महात्मा गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, सुभाष चन्द्र बोस, डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद, मौलाना अबुल कलाम आजाद, सुखदेव, गोपाल कृष्ण गोखले, लाला लाजपत राय, लोकमान्य बालगंगाधर तिलक एवं चंद्र शेखर आजाद जैसे हजारों सैनानियों ने अपना बलिदान दिया। इसके बाद आज हम देश में आजादी के सांस ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि सैनानियों ने ब्रिटिश शासन से दिन रात लड़ते रहे, वे अपने जीवन के सारे सुख त्याग करते हुए अंततः लड़ते हुए अपनी जान की कुर्बानी तक दे डाली।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS