ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरल
बिहार
कवि सुमित्रानंदन पंत की जयन्ती मनायी गई
By Deshwani | Publish Date: 30/5/2017 5:02:08 PM
कवि सुमित्रानंदन पंत की जयन्ती मनायी गई

अररिया,  (हि.स.)। द्विजदेनी स्मारक उच्च विद्यालय के प्रांगण में इन्द्रधनुष साहित्य परिषद्, फारबिसगंज की ओर से मंगलवार को कवि सुमित्रानंदन पंत की जयन्ती मनायी गई। पंत की तस्वीर पर श्रद्धा-सुमन अर्पण के बाद वक्ताओं ने कहा कि हिन्दी साहित्य के वर्तमान काल के प्रकृति चित्रण के श्रेष्ठ चितेरे कवियों में कविवर सुमित्रानंदन पंत का स्थान सर्वोत्कृष्ट है।
पंत जी का जन्म संवत् 1957 में उत्तर - प्रदेश के अल्मौड़ा के कौसानी नामक ग्राम के पर्वतीय ब्राह्मण कुल में हुआ था| उन्होंने काशी एवं प्रयाग में पढ़ने के बाद गांधीजी के स्वतंत्रता आंदोलन से प्रभावित होकर अध्ययन छोड़ दिया, किन्तु स्वाध्याय के बल पर संस्कृत, अंग्रेजी, बंगला एवं फारसी भाषाओं में पौढ़ ज्ञान अर्जित किया।

वक्ताओं ने कहा कि पंत जी ने किशोरावस्था से हीं काव्य-रचना प्रारंभ की थी | उनकी प्रसिद्ध रचना पल्लव , वीणा , युगान्त , ग्रंथि , युगवाणी, ग्राम्या, उत्तरा, स्वर्ण किरण आदि हैं| उन्हे वर्ष 1968 में चिदंबरा के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार के आलावा साहित्य अकादमी पुरस्कार, पद्म श्री, सोवियत नेहरू शांति पुरस्कार से भी नवाजा गया था।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS