ब्रेकिंग न्यूज़
उपमुख्‍यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा– फिजियोथेरेपी है समय की जरूरतदिल्ली मेट्रो की ग्रे-लाइन पर नजफगढ़-ढांसा बस स्टैंड खंड का उद्घाटन किया गयाप्रधानमंत्री 18 सितंबर को गोवा में स्वास्थ्य कर्मचारियों और कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लाभार्थियों से संवाद करेंगेपूर्वी चम्पारण के एसपी नवीन चन्द्र झा ने रक्सौल नगर थाने का किया औचक निरीक्षण, दिए निर्देशप्रधानमंत्री ने गुजरात सरकार में मंत्री पद की शपथ लेने वाले सभी लोगों को बधाई दीकेंद्रीय कृषि मंत्रालय ने किया सभी संघ राज्य क्षेत्रों का सम्मेलनरक्सौल: स्वर्ण व्यवसाई हत्याकांड में मृतक कपिलदेव सर्राफ के ब्यान पर एफआईआर दर्ज, छापेमारी जारीउपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और लोकसभा अध्यक्ष संयुक्त रूप से 15 सितंबर को ‘संसद टीवी’ का करेंगे शुभारंभ
राष्ट्रीय
उपराष्ट्रपति ने आज विश्व विश्वविद्यालय शिखर सम्मेलन को किया संबोधित
By Deshwani | Publish Date: 21/7/2021 9:46:52 PM
उपराष्ट्रपति ने आज विश्व विश्वविद्यालय शिखर सम्मेलन को किया संबोधित

दिल्ली उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू ने ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित वर्ल्ड यूनिवर्सिटीज समिट (विश्व विश्वविद्यालय शिखर सम्मेलन) को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित किया। केंद्रीय शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। शिखर सम्मेलन का विषय "भविष्य के विश्वविद्यालय: संस्थागत मजबूती, सामाजिक उत्तरदायित्व और सामुदायिक प्रभाव का निर्माण" था।

 
 
 
 
उपराष्ट्रपति ने विश्वविद्यालयों से जलवायु परिवर्तन, गरीबी और प्रदूषण जैसी वैश्विक चुनौतियों का हल तलाशने के लिए विचारशील नेतृत्व प्रदान करने को कहा। उन्होंने यह भी कहा कि विश्वविद्यालयों को दुनिया के सामने आने वाले विभिन्न सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा करना चाहिए और वैसे विचार पेश करने चाहिए जिन्हें सरकारें अपनी जरूरतों और उपयुक्तता के अनुसार लागू कर सकें।
 
मातृभाषा में शिक्षा के लाभों का उल्लेख करते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह किसी की सीखने और समझ के स्तर को बढ़ाता है। उन्होंने कहा, "किसी विषय को दूसरी भाषा में समझने के लिए पहले उस भाषा को सीखना और उसमें महारत हासिल करना होगा, जिसमें काफी मेहनत की जरूरत होती है। हालांकि, मातृभाषा में सीखने के दौरान ऐसा नहीं होता है।"
 
 
 
 
उपराष्ट्रपति ने भारत की समृद्ध भाषाई एवं सांस्कृतिक विरासत पर प्रकाश डालते हुए कहा कि देश सैकड़ों भाषाओं और हजारों बोलियों का घर है। उन्होंने कहा, "हमारी भाषाई विविधता हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की आधारशिलाओं में से एक है।" श्री नायडू ने मातृभाषा के महत्व पर जोर देते हुए कहा, "हमारी मातृभाषा या हमारी मूल भाषा हमारे लिए बहुत खास है, क्योंकि हम इसके साथ बहुत गहरा संबंध साझा करते हैं।"
 
 
 
 
केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए, भारत के शिक्षा क्षेत्र में बदलाव लाकर उसे वैश्विक मानकों के अनुरूप लाने, अनुसंधान और नवाचार को प्रोत्साहित करने और अच्छी तरह से जिम्मेदार नागरिक - जो वैश्विक नागरिक या ‘विश्व मानव’ भी हैं, का निर्माण करने से जुड़ी सरकार की प्रतिबद्धता पर जोर दिया।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS