ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल के बारा जिला में अवैध पिस्टल के साथ एक गिरफ्तारप्रधानमंत्री की चुनावी रैली की तैयारी का जायजा लेने मोतिहारी पहुंचे बिहार चुनाव प्रभारी सह पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीससात माह लंबे इंतजार के बाद खुला भारत-नेपाल बॉर्डररक्सौल: पनटोका कैम्प में पुलिस स्मृति दिवस मनाया गयारक्सौल में रेल पुलिस ने 18 बोतल शराब रेलवे पोखरा के पास से किया बरामदप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा-जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं, के मंत्र का पूरी तरह पालन करना आवश्‍यकरक्सौल: पुरेन्दरा पंचायत के मुखिया ने हथियार से प्रहार कर एक व्यक्ति को गंभीर रुप से किया घायलमोतिहारी सेन्ट्रल बैंक रिजनल कार्यालय में भीषण आग, 4 घंटे के मशक्कत के बाद रात 8 बजे आग पर काबू
राज्य
उत्तर प्रदेश: तो 2023 में दुनिया का 5वां सबसे बड़ा एयरपोर्ट बन जाएगा जेवर हवाई अड्डा
By Deshwani | Publish Date: 23/9/2020 5:46:17 PM
उत्तर प्रदेश: तो 2023 में दुनिया का 5वां सबसे बड़ा एयरपोर्ट बन जाएगा जेवर हवाई अड्डा

नई दिल्ली। अगर सब कुछ योजना के मुताबिक रहा तो करीब 4 साल बाद उत्तर प्रदेश में दुनिया का 5वां सबसे बड़ा एयरपोर्ट अपनी शक्ल ले लेगा। ग्रेटर नोएडा के प्रस्तावित जेवर एयरपोर्ट के लिए जो प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है उसके पास होने पर यह क्षेत्र के लिहाज से दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से दोगुना हो जाएगा और प्रस्ताव के अनुसार 2022-23 में तैयार होने के बाद यह दुनिया का 5वां सबसे बड़ा हवाई अड्डा बन जाएगा।
 
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर लोड कम करने और स्थानीय लोगों की ओर से आर्थिक विकास, पर्यटन, रोजगार और व्यवसाय बढ़ाने की मांग को लेकर जेवर एयरपोर्ट बनाने की मांग लंबे समय से की जा रही थी। अब राज्य सरकार की ओर से पैसे आवंटित किए जाने के बाद इस संबंध में काम शुरू हो गया है। राज्य सरकार की ओर से फंड पास कर दिया गया है। स्थानीय प्रशासन ने जमीन अधिग्रहण को लेकर अपनी प्रक्रिया शुरू कर दी है।
 
6 से 8 रनवे करने का प्रस्ताव
द नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एनआईएएल) एक प्रस्ताव तैयार कर रही है जिसके तहत जेवर एयरपोर्ट को 6 रनवे से बढ़ाकर 8 रनवे तक करने का सुझाव दिया जाएगा। प्रस्ताव तैयार करने के बाद प्रोजेक्ट को लेकर जमीन अधिग्रहण की तैयारी होने पर ही इसे मंजूरी के लिए राज्य सरकार को भेजा जाएगा। एक बार प्रोजेक्ट के पहले चरण के लिए जमीन का अधिग्रहण (1,239 हेक्टेयर भूमि) कर लिया जाता है तो द नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एनआईएएल) जेवर एयरपोर्ट को 6 से बढ़ाकर 8 रनवे करने की मंजूरी के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजेगी।
 
राज्य सरकार अगर जेवर एयरपोर्ट को 8 रनवे करने की मंजूरी दे देता है तो इसे करीब 5 हजार हेक्टेयर जमीन पर तैयार किया जाएगा और फिर क्षेत्र के लिहाज से यह दुनिया का 5वां सबसे बड़ा एयरपोर्ट बन जाएगा। दुनिया के 5 सबसे बड़े इंटरनेशनल एयरपोर्ट में 4 अमेरिका में हैं जबकि एक एशिया से है। जबकि भारत का सबसे बड़ा एयरपोर्ट हैदराबाद एयरपोर्ट है जो करीब 2,224 हेक्टेयर क्षेत्र (5,496 एकड़) में फैला है।

दुनिया में 5 और एशिया में नंबर 2
दुनिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट सऊदी अरब में है। दामम के किंग फहद इंटरनेशनल एयरपोर्ट 77,600 हेक्टेयर जमीन पर बना है। इसके बाद अमेरिका के डेंवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नंबर आता है जो 13,571 हेक्टेयर जमीन पर बना है। तीसरे नंबर पर अमेरिका का ही डलास इंटरनेशनल एयरपोर्ट है जो 6,963 हेक्टेयर जमीन पर फैला हुआ है। चौथे और पांचवें नंबर पर अमेरिका के ही ओरलैंडो इंटरनेशनल एयरपोर्ट और वाशिंगटन ड्यूलेस इंटरनेशनल एयरपोर्ट हैं जो क्रमशः 5,383 और 4,856 हेक्टेयर जमीन पर बने हुए हैं।
 
करीब 5 हजार हेक्टेयर में तैयार होने जा रहे जेवर एयरपोर्ट दुनिया का पांचवां और एशिया का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट बन जाएगा। किंग फहद इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बाद एशिया का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट चीन के शंघाई है। शंघाई इंटरनेशनल एयरपोर्ट 3,988 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला है, इस लिहाज से जेवर एशिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट बन जाएगा।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS