ब्रेकिंग न्यूज़
भाजपा नेता रवि किशन ने शाहीनबाग़ के विरोध को बताया विपक्ष की साजिश, कहा - 500 रुपये लेकर महिलाएं कर रहीं प्रदर्शनपरीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं - मोदी, परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी ले रहे भागजम्‍मू कश्‍मीर के शोपियां जिले में 3 आतंकवादी ढेर, सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ जारीतहकीकात बाद दें किराया, मोतिहारी के अंबिकानगर लॉज से पटना से अपहृत छात्र मुक्त, प्रिंस पाण्डेय समेत 5 गिरफ्तारमोतिहारी की सांस्कृतिक भूमि को उर्वरा बनानेवाले पूर्व वीसी डॉ वीरेन्द्रनाथ पाण्डेय का पटना में निधनकेन्द्र सरकार के गृह राज्यंत्री, बिहार के भाजपा अध्यक्ष व विधायक साथ रक्सौल में 47 वी बटालियन आउट पोस्ट का जायजा लियाबेतिया में नाजायज संबंध के विरोध पर पति ने पत्नी को दिया तलाकमोतिहारी के सुगौली में परिज सुबह जगे तो देखा पति व गर्भवती पत्नी की गला रेत कर हत्या, फौरेंसिक टीम पहुंची, खून से सना चाकू बरामद, एसआईटी गठित
राज्य
एनसीपी-कांग्रेस संग जाने पर शिवसेना नेता का इस्तीफा, बोले- अंतरात्मा इजाजत नहीं देती
By Deshwani | Publish Date: 27/11/2019 2:56:58 PM
एनसीपी-कांग्रेस संग जाने पर शिवसेना नेता का इस्तीफा, बोले- अंतरात्मा इजाजत नहीं देती

मुंबई। महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस के गठबंधन वाली सरकार बनने जा रही है। शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे कल (28 नवंबर) महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। जानकारी के अनुसार कल शाम 6:30 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। हालांकि, शिवसेना का कांग्रेस से हाथ मिलाना कुछ शिवसैनिकों को रास नहीं आ रहा है। उद्धव ठाकरे के करीबी माने जाने वाले रमेश सोलंकी ने शिवसेना और युवा सेना से इस्तीफा दे दिया है।

 
रमेश सोलंकी शिवसेना की इकाई युवासेना की आईटी सेल कोर कमेटी मेंबर होने के साथ-साथ गुजरात राज्य संपर्क प्रमुख भी थे। रमेश सोलंकी ने कहा, 'कहावत है जब जहाज डूबता है तो सबसे पहले चूहे कूदकर भागते हैं, लेकिन शिवसेना का साथ मैं तब छोड़ रहा हूं जब पार्टी शीर्ष पर है और पार्टी राज्य में सरकार बनाने जा रही है।'
 
सोलंकी ने ट्विटर पर लिखा, बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व, करिश्माई व्यक्तित्व और निडर नेतृत्व से प्रभावित होकर 1998 में वे शिवसैनिक बने। कई चुनाव चुनावों में उतार-चढ़ाव देखे, लेकिन बीएमसी से लेकर विधानसभा-लोकसभा चुनाव तक केवल 'हिंदू राष्ट्र' और 'कांग्रेस मुक्त भारत' के सपने के लिए काम करते रहे। सोलंकी ने लिखा, 'पिछले कुछ दिनों से लोग मेरा स्टैंड पूछ रहे थे। तो आज मैं साफ कर देता हूं, जो मेरे श्रीराम का नहीं है (कांग्रेस), वो मेरे किसी काम का नहीं है।'
 
रमेश सोलंकी ने कहा कि 21 साल तक बिना पद, प्रतिष्ठा या टिकट की मांग के वे रात-दिन पार्टी के आदेश का पालन करते रहे, लेकिन जब शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने का फैसला किया, तो उनकी आत्मा कांग्रेस के साथ काम करने की इजाजत नहीं दे रही है। सोलंकी ने उद्धव ठाकरे, आदित्य ठाकरे और तमाम शिवसैनिकों का इतने सालों तक सहयोग देने के लिए धन्यवाद दिया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS