ब्रेकिंग न्यूज़
भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने चौथे टी-20 में वेस्टइंडीज को 5 रन से हरायाराज्यसभा के 250वें सत्र को प्रधानमंत्री मोदी ने किया संबोधित, बोले- इस सदन ने इतिहास बनाया भी और बदला भीसिताब दियारा में लगा परिवार नियोजन कैंप, महिलाओं ने अस्थाई साधनों को अपनायाकाबुल में सैनिक ट्रेनिंग सेंटर के बाहर आत्मघाती हमला, 4 जवान घायलमहाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर पवार बोले, बीजेपी-शिवसेना से पूछो सरकार कैसे बनेगीबेतिया में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या2019 का ये आखिरी सत्र है, हम चाहते हैं सभी मुद्दों पर उत्तम संवाद हो: प्रधानमंत्री मोदीशीतकालीन सत्र: साइकिल से संसद भवन पहुंचे सांसद मनोज तिवारी, केजरीवाल सरकार के लिए कही ये बात
राज्य
आंध्र प्रदेश: भगवान कल्कि आश्रम के 40 ठिकानों पर आईटी का छापा चौथे दिन जारी
By Deshwani | Publish Date: 19/10/2019 3:44:07 PM
आंध्र प्रदेश: भगवान कल्कि आश्रम के 40 ठिकानों पर आईटी का छापा चौथे दिन जारी

अमरावती (आंध्र प्रदेश)। कर्नाटक के बेंगलुरु में कथित आध्यात्मिक गुरु कल्कि भगवान के आश्रम से संबद्ध 40 ठिकानों पर चौथे दिन भी आयकर का छापा जारी है। आयकर विभाग के अनुसार अब तक करीब 500 करोड़ रुपये से अधिक की अघोषित आय का खुलासा हुआ है। तलाशी में 43.9 करोड़ रुपये की नकदी, 25 लाख डॉलर (विदेशी मुद्रा), 88 किलोग्राम सोना, पांच करोड़ रुपये मूल्य के हीरा जब्त किए गए हैं। आयकर विभाग की विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई है।
 
आयकर विभाग की विज्ञप्ति में कहा गया है कि आश्रम के 40 ठिकानों पर कार्रवाई अभी भी जारी है। कार्रवाई में तमिलनाडु ,आंध्र प्रदेश , कर्नाटक और तेलंगाना के अधिकारी शामिल हैं। कल्कि भगवान के संचालित ट्रस्टों और कंपनियों के समूह ने भारत और कई विदेशी कंपनियों में मोटा निवेश किया है। इसमें कर मुक्त देश (टैक्स हेवन) भी शामिल हैं। चीन, अमेरिका, सिंगापुर, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) आदि देशों पर स्थित यह कंपनियां विदेशी ग्राहकों से धन प्राप्त करती हैं। 
 
आयकर विभाग का कहना है कि तलाशी में मिले दस्तावेजों में खुलासा हुआ है कि तमिलनाडु में हजारों एकड़ बेनामी जमीन है। आंध्र प्रदेश के अलावा देश के तमाम हिस्सों और विदेशों में अचल संपत्ति के साक्ष्य मिले हैं। कंपनी ने निर्माण, खेल आदि क्षेत्रों में बड़ा निवेश किया है।उल्लेखनीय है कि भगवान कल्कि के साथ उनके बेटे कृष्णजी पर सैकड़ों एकड़ जमीन पर कब्जा कर रियल इस्टेट का कारोबार करने का आरोप है। 
 
खुद को 'कल्कि भगवान' कहने वाले विजय कुमार नायडू ने एलआईसी में क्लर्क के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी। क्लर्क की नौकरी छोड़कर नायडू ने एक शैक्षणिक संस्थान की स्थापना की। संस्थान का दिवालिया निकलने पर वह भूमिगत हो गया। अपने आप को विष्णु का दसवां अवतार कल्कि भगवान बताते हुए विजय 1989 में चित्तूर में सामने आया था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS