ब्रेकिंग न्यूज़
नफरत को खत्म करने, संविधान को बचाने, एन आर सी, सी ए ए जैसे काले कानून के खिलाफ भारत के गंगा-जमुनी तहजीब का नमूना है शाहीन बाग: पप्पू यादवधार्मिक कार्यक्रम में जा रहे हजारों भारतीयों को नेपाल ने करोना वायरस की आशंका से गुरुवार की रात्रि रोका, वार्ता के बाद आज मिली एन्ट्रीपुलवामा हमले के शहीदों को राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलिआगर- लखनऊ एक्सप्रेस वे पर मोतिहारी की बस की भीषण दुर्घटना में मृतकों के नाम फिरोजाबाद प्रशासन ने मोतिहारी एसपी को पत्र लिखकर दिएरक्सौल में लुधियाना की नाबालिक लड़की को प्रेम जाल में फंसा कर विवाह करने के आरोप में एक युवक गिरफ्तारऔरंगाबाद में 9वी की छात्रा की हत्या, छात्रा का शव उसके ही क्लास रूम में मिलाभारत को हराकर पहली बार बांग्लादेश ने अंडर-19 क्रिकेट विश्वकप जीतापटना के गांधी मैदान से सटे इलाके में ब्लास्ट होने से करीब आधा दर्जन लोग घायल
राज्य
मनसे प्रमुख राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ईडी दफ्तर, दफ्तर के बाहर धारा-144
By Deshwani | Publish Date: 22/8/2019 5:38:22 PM
मनसे प्रमुख राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ईडी दफ्तर, दफ्तर के बाहर धारा-144

मुंबई। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे से आज 'कोहिनूर सीटीएनएल-आईएल ऐंड एफएस' मामले में ईडी पूछताछ कर रही है। इसे देखते हुए मुंबई पुलिस ने गुरुवार को दक्षिण मुंबई में ईडी कार्यालय के बाहर सीआरपीसी की धारा-144 लगा दी है। यह कदम कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए उठाया गया है। पुलिस ने कहा कि राज ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से ईडी कार्यालय के बाहर नहीं जाने की अपील की है, लेकिन हम कोई भी जोखिम नहीं लेना चाहते हैं। 

 
ठाकरे ईएलएंडएफएस जांच के सिलसिले में पूछताछ के लिए बल्लार्ड पियर स्थित ईडी कार्यालय में पेश हुए। मनसे नेता संदीप देशपांडे को गुरुवार की सुबह पुलिस ने हिरासत में ले लिया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, 'हमने माता रमाबाई अंबेडकर मार्ग पुलिस थाना के अधिकार क्षेत्र में धारा 144 लागू की है जहां ईडी कार्यालय स्थित है। उन्होंने कहा कि धारा 144 के तहत चार से अधिक व्यक्तियों को उस इलाके में एक जगह इकट्ठा होने पर प्रतिबंध होता है, जहां शांति भंग होने की आशंका रहती है। 
 
गौरतलब है कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कोहिनूर इमारत के निर्माण मामले में मनसे सुप्रीमो राज ठाकरे को तलब किया था और 22 अगस्त को पूछताछ के लिए उपस्थित होने के लिए कहा था। इस मामले में ईडी ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी के बेटे उन्मेष जोशी को भी पूछताछ के लिए बुलाया था। बताया जा रहा है कि उन्मेष जोशी की कंपनी कोहिनूर सीटीएनएल के जरिए ही कोहिनूर मिल की जमीन की खरीद फरोख्त हुई थी और इसके बाद यहां कोहिनूर स्क्वायर नाम से एक शानदार बहुमंजिली इमारत बनाई गई। इसके निर्माण में सरकारी कंपनी इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंसियल सर्विसेज (आईएल एंड एफएस) के माध्यम से निवेश किया गया।  
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS