ब्रेकिंग न्यूज़
जीपीएफ पर सरकार ने घटाई ब्याज दर, जानिए अब कितना मिलेगा इंटरेस्टमार्क एस्पर होंगे अमेरिका के नए रक्षा मंत्रीउप्र के एक लाख सहायक शिक्षकों बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने पलटा इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसलासुपर- 30 के अभिनेता ऋतिक रोशन से मिले उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी और आनंद कुमारपूर्व प्रधानमंत्री स्व. चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर भाजपा में शामिल, अमित शाह से किया था संपर्कविश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला कल से, अर्घा से जलार्पण करेंगे कांवरियेयूपी भाजपा को मिला नया अध्यक्ष, स्वतंत्र देव सिंह को मिली जिम्मेदारीकर्नाटक संकट: बागी विधायकों की याचिका पर फैसला सुरक्षित, सर्वोच्च न्यायालय कल सुनाएगा फैसला
राज्य
कुशीनगर में विरोध के वावजूद भी अतिक्रमण साफ
By Deshwani | Publish Date: 17/6/2019 10:57:11 PM
कुशीनगर में विरोध के वावजूद भी अतिक्रमण साफ

कुशीनगर। भानु तिवारी। जिले के खड्डा थाना क्षेत्र के लखुआ-लखुई गांव में उच्च न्यायालय के आदेश के क्रम में सोमवार को रास्ते की जमीन को खाली कराने पहुंची प्रशासनिक टीम को भारी विरोध का सामना करना पड़ा। 

 
पुलिस व पीएसी फोर्स की मौजूदगी में टीम ने जब जेसीबी लगवाकर रास्ते की जमीन में बनी झोपड़ी को हटवाना शुरू किया तो कुछ लोगों ने महिलाओं व बच्चों को आगे कर हंगामा कराने की कोशिश शुरू कर दी। लेकिन पर्याप्त महिला फोर्स होने के कारण उनका दाव उल्टा पड़ गया। प्रशासनिक टीम ने जबरन अतिक्रमण साफ करा दिया। इस दौरान देर तक अफरा-तफरी और हो-हल्ला होता रहा।
 
ग्राम सभा लखुआ लखुई निवासी रामचरण गुप्ता व श्यामाचरण का खेत गांव से सटे दलित बस्ती में सड़क के किनारे है। इनके ही खेत के सामने रास्ते खाते की सरकारी जमीन है। इस पर गांव के कुछ लोगों ने झोपड़ी डालकर अवैध कब्जा जमा लिया। इसकी शिकायत रामचरण ने खड्डा में डीएम की अध्यक्षता में आयोजित तहसील दिवस में की थी, जिस पर डीएम डा. अनिल कुमार सिंह ने एसडीएम से मुआयना कर इसकी रिपोर्ट देने को कहा था।
 
एसडीएम की जांच में मामला सही पाया गया तो एसडीएम ने अतिक्रमणकारियों के विरुद्ध धारा 133 सीआरपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर कब्जा हटाने का निर्देश दिया। इस पर तहसील प्रशासन तीन बार उक्त जमीन से कब्जा हटवाने का प्रयास किया, लेकिन महिलाओं व बच्चों के आगे आने के चलते तहसील प्रशासन को बिना अतिक्रमण हटवाए बैंरग वापस लौटना पड़ता था। इसके बाद वादी रामचरण ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटया। हाईकोर्ट ने एसडीएम को कब्जा हटवाने का निर्देश देते हुए एक माह के भीतर इसकी रिपोर्ट देने को कहा।
 
इसी आदेश के अनुपालन में एसडीएम दिनेश कुमार के नेतृत्व में टीम पडरौना महिला थाने की पुलिस व पीएसी के साथ जेसीबी मशीन लेकर गांव में पहुंची। टीम के पहुंचते ही अतिक्रमण करने वालों में भगदड़ मच गयी। लेकिन वे अपने बच्चों व परिवार की महिलाओं को पुलिस फोर्स के आगे कर दिये। महिलाएं अतिक्रमण नहीं हटाने की बात पर अड़ गयीं तो महिला पुलिस को सामने आना पड़ा। कुछ देर बाद तहसील प्रशासन ने रास्ते की जमीन पर किए गये अवैध अतिक्रमण को जेसीबी मशीन से गिरवाकर पूरी तरह साफ करवा दिया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS