ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्व मंत्री यशवंत सिन्हा को श्रीनगर एयरपोर्ट से भेजा गया वापस, अन्य सदस्यों को अनुमति मिलीगंगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि: कई गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडराया, इलाके के लोग सहमेसंजीदा अभिनय के लिये मशहूर विद्या बालन की फिल्म ‘शकुंतला देवी’ का टीजर रिलीजमुख्यमंत्री योगी ने बलिया में बाढ़ग्रस्त क्षेत्र का किया हवाई सर्वेक्षण, बाढ़ पीड़ितों को दी सामग्रीप्रधानमंत्री मोदी ने लिया मां हीरा बेन का आशीर्वाद, साथ किया भोजनमहादलित बस्ती भंटाडीह में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन, 437 मरीजों का हुआ स्वास्थ्य परीक्षणचतरा में पुलिस ने टीपीसी के सबजोनल कमांडर शेखर गंझू को दबोचा, 5 लाख का था इनामबिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने पितरों की आत्मा के लिए किया पिंडदान
राज्य
माघी पूर्ण‍िमा पर आज कुंभ में श्रद्धालु लगा रहे हैं आस्‍था की डुबकी, 80 लाख लोगों के स्नान करने का अनुमान
By Deshwani | Publish Date: 19/2/2019 11:17:05 AM
माघी पूर्ण‍िमा पर आज कुंभ में श्रद्धालु लगा रहे हैं आस्‍था की डुबकी, 80 लाख लोगों के स्नान करने का अनुमान

प्रयागराज। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले में कम से कम 40 जवानों के शहीद होने की घटना के मद्देनजर विश्व के सबसे बड़े आध्यात्मिक समागम कुम्भ मेले के पांचवें प्रमुख स्नान पर्व माघी पूर्णिमा स्नान के लिए प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं।

 
आज कुंभ में माघी पूर्णिमा स्नान के अवसर पर श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगा रहे हैं। आज के पावन दिन करीब 80 लाख श्रद्धालुओं के गंगा और संगम में स्नान करने की संभावना है। स्नानार्थियों के लिए मेला क्षेत्र में सुरक्षा की प्रर्याप्त व्यवस्था की गई है। पुलिस के अलावा अन्य सुरक्षा एजेंसियों के जवान लगातार चप्पे-चप्पे पर नजर रखे हुए हैं।
 
 
कुम्भ मेलाधिकारी विजय किरण आनंद ने सोमवार को बताया था कि अगर कहीं अतिरिक्त सुरक्षा बलों की आवश्यकता पडेगी तो रिजर्व से फोर्स लेकर तत्काल तैनाती की जाएगी। उन्होंने कहा कि अभी मेला के लिए पर्याप्त बल है। मेला क्षेत्र में 96 कन्ट्रोल वाच टावर स्थापित हैं। इसके साथ मेला क्षेत्र में 440 सीसीटीवी कैमरों की मदद से निरंतर निगरानी की जा रही है। 
 
मेलाधिकारी ने बताया कि त्रिवेणी स्नान के लिए सुबह से श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। देर शाम तक करीब 60 से 70 लाख लोगों के स्नान करने की संभावना है। उन्होंने कहा कि रेल गाडियों में सीमित भीड़ आती है जबकि निजी वाहन जैसे ट्रैक्टर, जीप, बस आदि से 90 प्रतिशत श्रद्धालु संगम पहुंच रहे हैं।
 
आनंद ने कहा कि मकर संक्रांति, बसंत पंचमी और मौनी अमावस्या स्नान पर जो व्यवस्थाएं की गई थीं, उसमें इस बार थोड़ा संशोधन किया गया है। आज का स्नान, शाही स्नान नहीं होने के कारण अखाड़ा मार्ग पर तैनात रहे जवानों को शहर के मुख्य चौराहों पर भीड़ नियंत्रित करने के लिए तैनात किया गया है। 
 
कुम्भ मेला के डीआईजी के पी सिंह ने कहा कि मेला प्रशासन की सबसे बड़ी जिम्मेदारी श्रद्धालुओं को स्नान के बाद सुरक्षित उनके गंतव्य प्रस्थान की सुविधा देना है। दूर दराज से आए श्रद्धालुओं के लिए कई मेला विशेष ट्रेनों के साथ ही राज्य परिवहन निगम ने अलग-अलग दिशाओं में रोडवेज की बसों का संचालन शुरू किया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS