ब्रेकिंग न्यूज़
फिल्म 'भारत' के ट्रेलर से इसलिए गायब हुई तब्बू, यह है बड़ी वजहबिहार में चार बजे तक लगभग 50.9 प्रतिशत मतदानरूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन से मिलेंगे उत्तर कोरिया के किम जोंगराफेल केस: सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में राहुल गांधी को जारी किया नोटिस, 30 को होगी सुनवाईसुपौल लोकसभा क्षेत्र में बारिश ने डाला खलल, दिन चढ़ने के साथ बढ़ती गयी मतदाताओं की कतारडेमोक्रेट सांसद कमला हैरिस ने की ट्रंप के खिलाफ महाभियोग शुरू करने की मांगउप्र की दस सीटों पर मतदान जारी, इस चरण में 'यादव परिवार' की साख दांव परराजस्थान: मोदी पर बरसे राहुल, कहा- प्रधानमंत्री मोदी ने सबसे अधिक नुकसान आदिवासियों का किया
राज्य
मुंबई में डांस बार के खिलाफ अब ये कदम उठा सकती है महाराष्ट्र सरकार
By Deshwani | Publish Date: 18/1/2019 2:50:05 PM
मुंबई में डांस बार के खिलाफ अब ये कदम उठा सकती है महाराष्ट्र सरकार

मुंबई। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में डांस बार पर रोक हट गई है इस बारे में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था जिसके मुताबिक डांसर को अलग  से टिप नहीं दी जा सकती है और ना ही डांसर पर पैसे उछाले जा सकते हैं। इसके साथ ही कोर्ट ने बार में कैमरे लगाने को भी अनुचित ठहराते हुए कहा है कि इससे लोगों की प्राइवेसी यानि उनके निजता के अधिकार का हनन होगा। 

 
महाराष्ट्र में फिर से डांस बार खोलने का मार्ग प्रशस्त करने वाले सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राज्य सरकार इसे रोकने के लिए एक अध्यादेश लाने पर विचार कर रही है। सुप्रीम कोर्ट ने डांस बार को लाइसेंस देने और उनके संचालन पर प्रतिबंध लगाने वाले 2016 के एक कानून के कुछ प्रावधानों को रद्द करते हुए कहा कि इन पर 'नियमन' हो सकते है लेकिन 'पूर्ण प्रतिबंध' नहीं।
 
वरिष्ठ मंत्री सुधीर मुंगंतीवार ने बताया कि राज्य के सांस्कृतिक तानेबाने की रक्षा करने के लिए राज्य सरकार डांस बारों को फिर से खोलने से रोकने के लिए अध्यादेश लाने पर विचार कर रही है। मुंगंतीवार ने कहा कि राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करती है लेकिन वह अपने रुख पर कायम है कि डांस बार को खुलने नहीं दिया जा सकता।
 
वित्त एवं योजना मंत्री ने बताया कि अगले सप्ताह राज्य मंत्रिमंडल की साप्ताहिक बैठक में मुद्दे पर विस्तार से चर्चा की जाएगी। उन्होंने कहा, 'लोगों के हित में और राज्य के सांस्कृतिक तानेबाने की रक्षा के लिए हम डांस बार खुलने से रोकने के लिए अध्यादेश लाने से भी नहीं हिचकिचाएंगे।'
 
उन्होंने कहा, 'एक बार जब हमें अदालत का आदेश मिल जाएगा तो हमारे वकील इसका अध्ययन करेंगे और उनकी सिफारिशों के आधार पर हम अगले दो सप्ताह में एक अध्यादेश लाएंगे जिसके तहत मौजूदा कानून में संशोधन और उसे मजबूत किया जाएगा।' यह पूछने पर कि क्या ऐसा अध्यादेश उच्चतम न्यायालय के आदेश का उल्लंघन करेगा, इस पर मंत्री ने कहा कि अदालत के आदेश डांस बार के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा, 'सभी दल डांस बार के खिलाफ एक कानून के लिए एक साथ आए थे। हम इस बार भी ऐसा करेंगे।'
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS