ब्रेकिंग न्यूज़
दिग्‍व‍िजय भोपाल से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, 30 साल से यहां जीत नहीं पाई है कांग्रेसराम मनोहर लोहिया का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशानासुरक्षाबलों को सर्च अभियान के दौरान मिली सफलता, भारी मात्रा में विस्फोटक और हथियार बरामदहाइवा की चपेट में आने से युवक की मौत, विरोध में लोगों ने किया सड़क जामकांग्रेस की सरकार आई तो दस दिन में किसान का कर्जा होगा माफ: राहुल गांधीआईपीएल 2019: आईपीएल के शुरुआती 6 मैचों में नहीं खेलेंगे लसिथ मलिंगा, सामने आई ये वजहमणिकर्णिका' के बाद कंगना का बड़ा धमाका, जयललिता की बायोपिक से जुड़ा नामकरमबीर सिंह होंगे अगले नौसेना प्रमुख, सुनील लांबा 31 मई को हो रहे हैं रिटायर
पटना
सूखे से निपटने के लिए सरकार की आपात बैठक, लिये गये कई अहम फैसले
By Deshwani | Publish Date: 22/7/2018 6:15:49 PM
सूखे से निपटने के लिए सरकार की आपात बैठक, लिये गये कई अहम फैसले

  पटना। बिहार में सूखे की स्थिति से निबटने के लिए सरकार ने आज समीक्षा बैठक हुई। बैठक सीएम नीतीश कुमार के आवास पर बुलायी गयी थी। जिसमें, कृषि से जुड़े करीब 10 विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया। बैठक के बाद मुख्य सचिव दीपक कुमार ने पत्रकार वार्ता में बताया कि बैठक में समीक्षा के दौरान पाया गया कि बिहार में औसतन 50 फीसदी से कम बारिश हुई है। किसानों के लिए डीजल अनुदान की राशि 50 रुपये बढ़ायी गयी है। पहले एक लीटर डीजल पर 40 रुपये का अनुदान था। अभी एक लीटर डीजल का दाम करीब 73 रुपये हैं। किसानों को 50 रुपये सरकार देगी तो उन्हें एक लीटर पर 23 रुपये ही खर्च करने होंगे। आपदा को लेकर राशि की कमी नहीं होगी।

 
मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया कि 31 जुलाई को सीएम फिर सूखे की स्थिति की समीक्षा करेंगे। पटवन के लिए बिजली की दर घटाई गयी। 96 पैसे प्रति यूनिट की जगह अब 75 पैसे प्रति यूनिट का चार्ज लगेगा। ग्रामीण इलाकों में अगर ट्रांसफार्मर खराब होंगे तो उन्हें 48 घंटे में बदला जायेगा। जहां, पेयजल की कमी होगी वहां टैंकर से पानी पहुंचाया जायेगा। पीएचइडी विभाग 500 टैंकरों के जरिये पानी पहुंचायेगा।
 
बारिश नहीं होने की वजह से धान की रोपनी बहुत कम हुई है। पिछले साल इस समय तक करीब 1 लाख 47 हजार हेक्टेयर जमीन में रोपनी हो चुकी थी। लेकिन इस साल केवल 66 हजार हेक्टेयर जमीन में ही रोपनी हुई है। यानी अभी तक आधी से भी कम रोपनी हुई है। पानी की कमी को देखते हुए सरकार वैकल्पिक खेती पर भी विचार कर रही है। धान की जगह वैसे वैकल्पिक फसल बीजों को 28 जुलाई तक सभी प्रखंड मुख्यालयों तक पहुंचाने के लिए निर्देश दिया गया है।
 
 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS