ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार कैबिनेट का फैसला : लड़कियों को जन्म से लेकर स्नातक तक मिलेगा समुचित लाभ व सुरक्षाशत्रुघ्‍न सिन्‍हा का सवाल, 'सर, नोटबंदी के 18 माह बाद भी एटीएम में पैसा नहीं है, यह क्‍या हो रहा है'पंजाब ने हैदराबाद के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लियासुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस ने बुलाई विपक्ष की बैठकराज्यों के नाम मेनका का खत, रेप जैसी घटनाओं को रोकने के लिए दिए सुझावसीतामढ़ी रीगा चीनी मिल के मालिकों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंटप्रिंटिंग प्रेस में 24 घंटे चल रही नोटों की छपाई, कैश की समस्या होगी खत्मयूएस पहुंची कठुआ-उन्नाव रेप कांड मामला: भारतीय-अमरीकियों ने किया प्रदर्शन
राज्य
मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की 29वीं कड़ी प्रसारित
By Deshwani | Publish Date: 14/1/2018 1:07:06 PM
मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की 29वीं कड़ी प्रसारित

रायपुर (हि.स.)। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि कुछ नया करने की नवाचारी सोच और बेहतर रणनीति के कारण नए वर्ष 2018 में छत्तीसगढ़ कई क्षेत्रों में अपने लक्ष्य पूरे करने जा रहा है। डॉ. रमन सिंह ने रविवार सवेरे आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की 29वीं कड़ी में राज्य के वर्ष 2018 के लक्ष्यों की जानकारी दी। मुख्यमंत्री का यह रेडियो प्रसारण राज्य में स्थित आकाशवाणी के सभी केन्द्रों से किया गया। प्रदेश के गांवों और शहरों में विभिन्न स्थानों पर लोगों ने बड़ी दिलचस्पी से उनकी रेडियो वार्ता को सुनकर उत्साहजनक प्रतिक्रिया दी।

 
मुख्यमंत्री ने रेडियो वार्ता में सभी लोगों को नए वर्ष 2018 और रविवार को मनाई जा रही मकर संक्रांति, इस महीने की 22 तारीख को मनाई जाने वाली वसंत पंचमी, 26 जनवरी के गणतंत्र दिवस और 31 जनवरी को मनाई जाने वाली संत रविदास जयंती की बधाई और शुभकामनाएं दी। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन के तहत निर्धारित लक्ष्य वर्ष 2019 के एक वर्ष पहले ही अर्थात 2018 में छत्तीसगढ़ ‘खुले में शौच मुक्त’ (ओडीएफ) राज्य बन जाएगा। इसके साथ सभी गांव शत-प्रतिशत विद्युतीकृत हो जाएंगे। हर घर में बिजली कनेक्शन और हर परिवार के हाथों में स्मार्ट फोन पहुंचाया जाएगा। हर परिवार को स्वास्थ्य बीमा योजना का स्मार्ट कार्ड भी इस वर्ष मिल जाएगा।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में हर व्यक्ति को भूख से मुक्त करने में सफलता मिल चुकी है। कुपोषण को 52 प्रतिशत से घटाकर 30 प्रतिशत तक ला दिया गया है। वर्ष 2018 में कुपोषण मुक्ति की दर और तेजी से बढ़ेगी। सम्पूर्ण टीकाकरण कार्यक्रम में हम राष्ट्रीय औसत से बहुत आगे है और इस वर्ष इसके 90 प्रतिशत के राष्ट्रीय लक्ष्य तक पहुंच जाएंगे। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत राज्य में 35 लाख परिवारों की महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें से अब तक 17 लाख कनेक्शन प्रदान कर दिए गए हैं। इस वर्ष आबादी पट्टे से वंचित सभी परिवारों को पट्टा वितरण कर दिया जाएगा।
 
लोक सुराज अभियान 2018 शुरू
डॉ. सिंह ने ‘रमन के गोठ’ में प्रदेशवासियों को जनसमस्याओं के समाधान के लिए राज्य सरकार द्वारा प्रारंभ किए गए लोक सुराज अभियान 2018 की जानकारी देते हुए कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी से 14 जनवरी की शाम तक आम जनता से उनकी समस्याओं के संबंध में आवेदन लिए गए हैं। माह जनवरी-फरवरी और मार्च में लगातार तीन महीने शासन-प्रशासन जनसमस्याओं के निवारण का काम करेगा। प्राप्त आवेदनों का निराकरण विभिन्न विभागों द्वारा किया जाएगा। 12 मार्च से 31 मार्च तक प्रत्येक 10 ग्राम पंचायत पर जनसमस्या निवारण शिविरों का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान वे स्वयं औचक निरीक्षण और जन समस्याओं के निराकरण की स्थिति की समीक्षा के लिए प्रदेश के भ्रमण पर जाएंगे। पूरी सरकार और प्रशासन गांव-गांव, गली-गली जाकर विभिन्न योजनाओं का क्रियान्वयन सुनिश्चित करेगा।
 
अनुसूचित वर्ग के 27 जाति समूहों के जाति प्रमाण पत्र बनना हुआ आसान
मुख्यमंत्री ने रमन के गोठ में बताया कि राज्य सरकार ने अनुसूचित वर्ग के 27 जाति समूहों के उच्चारणगत विभेद को मान्य करते हुए जाति प्रमाण पत्र जारी करने का निर्णय लिया है। इनमें अनुसूचित जनजाति के 22 समूह और अनुसूचित जाति के पांच जाति समूह शामिल हैं। छत्तीसगढ़ में अनुसूचित जनजाति के 42 समूह और अनुसूचित जाति के 22 जाति समूह अधिसूचित किए गए हैं। मूल रूप से यह अधिसूचना अंग्रेजी भाषा और लिपि में जारी हुई है और हिन्दी अनुवाद सिर्फ हिन्दी अधिसूचना के रूप में जारी हुआ है। अंग्रेजी से हिन्दी करते समय उच्चारण का अंतर आ गया है, जिसके कारण छत्तीसगढ़ के इन वर्ग के लोगों को जाति प्रमाण पत्र जारी होने में दिक्कत आ रही थी। राज्य सरकार के इस निर्णय से इन समूहों की इस समस्या का निदान हो गया है।
 
मुख्यमंत्री ने की विभिन्न जिलों के नये प्रयोगों की तारीफ
मुख्यमंत्री ने अपनी रेडियो वार्ता में प्रदेश के विभिन्न जिलों में आम जनता की सुविधा के लिए हो रहे नए प्रयोगों की तारीफ करते हुए कहा कि मेरा स्पष्ट सिद्धांत रहा है कि जिलों में बुनियादी प्रशासन या मूल प्रशासनिक काम-काज पर पहले ध्यान दिया जाना चाहिए। इसके साथ ही अगर नवाचारों से बेहतर नतीजे आते हैं, तो उनका भी स्वागत है। मैंने जनहित के लिए नवाचारी प्रयासों का हमेशा स्वागत किया है। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री ने रायपुर जिला प्रशासन द्वारा ‘शिक्षा के अधिकार’, कानून को सार्थक करने के लिए ऑनलाईन आवेदन तथा लॉटरी के माध्यम से स्कूलों में प्रवेश की व्यवस्था का भी उल्लेख किया और कहा कि इसके जरिए गरीब परिवारों के लगभग छह हजार बच्चों को बड़े निजी स्कूलों में प्रवेश मिला। 
रायपुर जिले में जिला खनिज निधि (डीएमएफ) मद से एक सौ स्कूलों और आंगनबाड़ी केन्द्रों को स्मार्ट बनाने की शुरुआत की गई है। युवाओं को अपने कैरियर के प्रति जागरूक करने के लिए युवा संकल्प कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है। राजधानी रायपुर में एनआईटी और सेंट्रल लाइब्रेरी के बीच ‘ऑक्सी रीडिंग जोन’ बनाया जा रहा है। रायपुर तथा दुर्ग जिले में सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए पुलिस प्रशासन ने अभियान शुरू किया है। इससे अपराधों पर अंकुश लगा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनांदगांव जिला पुलिस बल वनांचल के युवक-युवतियों को सेना, अर्ध सैनिक बल तथा जिला पुलिस बल में भर्ती के लिए प्रशिक्षित करने का काम कर रहा है। रायगढ़ जिले में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम के बेहतर क्रियान्वयन से एक हजार पुरुषों पर महिलाओं का अनुपात 918 से बढ़कर 936 हो गया है। सरगुजा जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों के लिए नरेन्द्र नगर नाम से एक कॉलोनी विकसित की जा रही है। अम्बिकापुर नगर निगम के स्वच्छता के मॉडल को राष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया है। 
इस मॉडल को प्रदेश के दूसरे नगरीय निकायों में भी लागू किया जा रहा है। कोरिया जिला प्रशासन ने कुपोषण को समाप्त करने के लिए प्रत्येक 15 दिनों में विशेष स्वास्थ्य शिविर आयोजित करने की शुरुआत की है। कोरिया जिले में महिलाओं और बालिकाओं की ‘शक्ति टीम’ गठित कर उन्हें आत्म रक्षा, कानूनी अधिकारों और शासन की योजनाओं का लाभ लेने के लिए जागरूक किया जा रहा है। डॉ. रमन सिंह ने कहा - महासमुंद जिले में कुपोषण मुक्ति के लिए ‘स्वस्थ लईका, जागरूक महतारी’ अभियान चलाया जा रहा है। दंतेवाड़ा का ‘जावंगा एजुकेशन हब’, बीजापुर का सर्वसुविधायुक्त अस्पताल वहां के जिला प्रशासन की पहल का अच्छा नतीजा है। मुंगेली जिले में ‘बाल पुलिस केडेट कार्यक्रम’, बालोद जिले में मिशन ई-रक्षा, तुंहर पुलिस तुंहर मुहाटी’, पुलिस कबड्डी लीग, महिला कमाण्डो, मिशन पूर्ण शक्ति से महिला और नागरिक सशक्तीकरण को बढ़ावा मिला है। 
युवाओं को पुलिस तथा सेना में भर्ती के लिए प्रेरित तथा प्रशिक्षित करने के लिए धमतरी जिला पुलिस ने ‘आओ संवारें कल अपना’ कार्यक्रम शुरू किया है। उन्होंने गरियाबंद जिले में पुलिस द्वारा ग्रामीणों के बीच खेलकूद को प्रोत्साहित किए जाने की भी तारीफ की। डॉ. सिंह ने कहा - इससे पुलिस और ग्रामीणों के बीच बेहतर समन्वय और ‘सामुदायिक पुलिसिंग’ को बढ़ावा मिल सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नक्सलवादियों द्वारा बच्चों की मासूमियत का फायदा उठाकर उनका उपयोग संदेश वाहक तथा मानव शील्ड के रूप में किया जाता है। इस दुश्चक्र को तोड़ने के लिए बस्तर जिला पुलिस द्वारा कुछ बच्चों को पुलिस संरक्षण प्रदान किया गया और पुलिस निगरानी में उनकी पढ़ाई तथा रहने की व्यवस्था की गई है। ऐसे प्रयास के लिए को बस्तर पुलिस को अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हुआ है।
 
नए वर्ष में ई-जनदर्शन की शुरुआत
मुख्यमंत्री ने ‘रमन के गोठ’ में कहा - मुख्यमंत्री निवास रायपुर में आयोजित ‘जनदर्शन’ में प्रदेश के दुर्गम तथा दूरस्थ अंचलों से ज्यादा संख्या में लोग राजधानी नहीं आ पाते। ऐसे जिलों के लोगों की सुविधा के लिए हमने नए साल में ई-जनदर्शन की शुरुआत जशपुर जिले से कर दी है। अन्य जिलों में भी ई-जनदर्शन का आयोजन किया जाएगा।
 
छत्तीसगढ़ में डिजिटल क्रांति का आगाज
डॉ. रमन सिंह ने कहा - छत्तीसगढ़ में नए साल की शुरुआत ‘डिजिटल क्रान्ति’ के नए युग के आगाज के साथ हुई है। राज्य में ‘डिजिटल क्रान्ति’ के लिए त्रिस्तरीय नेटवर्क विकसित किया जा रहा है। ‘भारत नेट’ परियोजना के लिए एक हजार 624 करोड़ रुपये की लागत से 85 विकासखण्डों की लगभग 06 हजार ग्राम पंचायतों को ‘ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क’ से जोड़ा जाएगा, जिसके लिए केन्द्र और राज्य सरकार की एजेंसियों के बीच एमओयू किया गया है। ‘बस्तर नेट’ के तहत 80 करोड़ रु. की लागत से 836 किलोमीटर ‘ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क’ बनाया जा रहा है। प्रदेश के 56 लाख परिवारों को स्मार्टफोन वितरण तथा 15 सौ मोबाइल टॉवर की स्थापना का लक्ष्य है।
 
गुदुम से भानुप्रतापपुर तक रेलवे नेटवर्क तैयार
मुख्यमंत्री ने रमन के गोठ में बताया कि दल्लीराजहरा-रावघाट के बीच 335 किलोमीटर की रेल परियोजना के अन्तर्गत गुदुम से भानुप्रतापपुर तक रेलवे नेटवर्क का निर्माण पूरा हो चुका है। गुदुम-भानुप्रतापपुर खण्ड में रेल इंजन का सफल ‘ट्रायल रन’ भी हो चुका है। इस मार्ग पर मार्च-2018 तक रेलगाड़ी का परिचालन शुरू करने की तैयारी है। भानुप्रतापपुर से केंवटी, अंतागढ़ तथा रावघाट तक रेलमार्ग का निर्माण कार्य भी युद्ध स्तर पर चल रहा है। विभिन्न रेल परियोजनाओं पर तेजी से काम चल रहा है, उससे यह उम्मीद है कि हम राज्य के रेलवे नेटवर्क को दोगुना से अधिक करने का लक्ष्य भी समय पर पूरा किया जा सकेगा। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS