ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार कैबिनेट का फैसला : लड़कियों को जन्म से लेकर स्नातक तक मिलेगा समुचित लाभ व सुरक्षाशत्रुघ्‍न सिन्‍हा का सवाल, 'सर, नोटबंदी के 18 माह बाद भी एटीएम में पैसा नहीं है, यह क्‍या हो रहा है'पंजाब ने हैदराबाद के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लियासुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस ने बुलाई विपक्ष की बैठकराज्यों के नाम मेनका का खत, रेप जैसी घटनाओं को रोकने के लिए दिए सुझावसीतामढ़ी रीगा चीनी मिल के मालिकों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंटप्रिंटिंग प्रेस में 24 घंटे चल रही नोटों की छपाई, कैश की समस्या होगी खत्मयूएस पहुंची कठुआ-उन्नाव रेप कांड मामला: भारतीय-अमरीकियों ने किया प्रदर्शन
राज्य
आजीविका मिशन ने गरीब परिवार में भर दी खुशियां
By Deshwani | Publish Date: 14/1/2018 12:50:10 PM
आजीविका मिशन ने गरीब परिवार में भर दी खुशियां

अनूपपुर (हि.स.)। संकुल राजेन्द्रग्राम अन्तर्गत ग्राम बसनिहा में बब्बू सिंह और विमला बाई सैयाम का परिवार बदहाली में जीवन यापन कर रहा था, जिसका मुख्य कारण परिवार का बड़ा होना था। परिवार में चार लड़कियां एवं दो लडक़े थे, कृषि योग्य भूमि भी नहीं थी, परिवार पूर्ण रूप से मजदूरी पर निर्भर था। परिवार की बिगड़ती स्थिति देख सुशीला और उसकी बहनें भी पढ़ाई छोड़ मजदूरी करने लगी। निरंतर मजदूरी न मिलने से वे और भी निराश हो गई थीं, लेकिन आजीविका मिशन ने इस परिवार में खुशियां भर दीं। 

दरअसल, वर्ष 2013-14 में राजेन्द्रग्राम में आजीविका मिशन के माध्यम से आयोजित रोजगार मेले में तीनों बहनों का चयन सलूजा स्पिनिंग इंडस्ट्रीज भोपाल में हुआ, तीनों बहनों ने कंपनी में प्रशिक्षु मशीन आपरेटर के पद पर ज्वाइन किया, तब सैलरी साढ़े सात हजार रुपए थी। चार माह बाद उन्होंने जयदीप स्पिनिंग कंपनी इंदौर में ज्वाइन किया, जहां उनके कार्य को देखते हुए सैलरी बढ़ा कर दी जाने लगी, निरन्तर कार्य एवं आगे बढऩे की ललक एवं खुशहाल जिन्दगी जीने की चाह ने उन्हें एक बार फिर एक अवसर दिया। अब चारों बहनें-सपना, पार्वती, सुशीला और महेश्वरी अब सिन्टेक्स इंडस्टी अमरेली गुजरात में 12,750 रूपये मासिक वेतन पर कार्य कर रही हैं।
चारों बहनों ने पूरी मेहनत एवं लगन के साथ काम किया और आज उन्होंने कल को बहुत पीछे छोड़ दिया है। पुराना कच्चा घर अब पक्का हो गया है, पिता और भाई के लिए बहनों ने मिलकर अपनी कमाई से आठ लाख की टैक्सी ‘‘बोलेरो‘‘ बैंक से ऋण लेकर खरीद दी है, जो कि गांव में चलती है और अब बैंक का ऋण भी एक लाख पचास हजार ही शेष बचा है। चार माह पहले बड़ी बहन सपना की शादी हो जाने के कारण अभी वह काम पर नहीं जा रही है, बाकी तीनों बहनें अभी भी काम कर रही हैं। बड़े भाई की भी शादी हो गई है, छोटे भाई को प्राईवेट स्कूल में अच्छी शिक्षा मिल रही है। छोटे भाई को पढ़ा लिखा कर डाक्टर बनाना अब बहनों का सपना है। जो भी बब्बू सिंह के घर के रास्ते गुजरता है, बस यही कहता है चारों बहनों ने लडक़ों को मात दे दी और घर में चार चांद लगा दिया।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS