ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी: लायंस कपल क्लब का पदस्थापना समारोह सम्पन्ननिलंबन के खिलाफ 8 विपक्षी सांसद धरने पर बैठे, हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगितप्रधानमंत्री मोदी का बिहार को सौगात- पटना व भागलपुर में दो बड़े पुल, ग्रामीण क्षेत्रों में तेज इंटरनेट ...और भी बहुत कुछपड़ोसी देश मालदीव की मदद के लिए भारत ने बढ़ाया हाथ, 25 करोड़ डॉलर की आर्थिक सहायता दीकोरोना काल में 6 महीने तक बंद रहने के बाद खुला ताज महल, चीनी टूरिस्ट ने किया सबसे पहले दीदारकेरल के एर्नाकुलम की खदान में भयंकर विस्फोट, दो मजदूरों की मौतCOVID-19: भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 86,961 नए केस, कोरोनावायरस से 1,130 की मौतभिवंडी हादसे पर प्रधानमंत्री मोदी ने जताया दुख, ट्वीट कर कहा- मेरी संवेदना पीड़ित परिवारों के साथ
राष्ट्रीय
निर्वाचन आयोग की गरिमा धूमिल करने का कोई भी प्रयास लोकतंत्र को कमजोर करना है: श्री प्रणब मुखर्जी
By Deshwani | Publish Date: 24/1/2020 11:43:39 AM
निर्वाचन आयोग की गरिमा धूमिल करने का कोई भी प्रयास लोकतंत्र को कमजोर करना है: श्री प्रणब मुखर्जी

नई दिल्ली पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि निर्वाचन आयोग की गरिमा धूमिल करने का कोई भी प्रयास लोकतंत्र को कमजोर करना है। उन्‍होंने कहा कि भारतीय लोकतंत्र समय की कसौटी पर खरा उतरा है। उन्‍होंने कहा कि सर्वसम्‍मति लोकतंत्र का मूल आधार है। श्री मुखर्जी कल  नई दिल्‍ली में सुकुमार सेन स्‍मारक व्‍याख्‍यान दे रहे थे। सुकुमार सेन भारत के पहले मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त थे, जिनके नेतृत्‍व में लोकसभा के पहले दो आम चुनावों का सफल संचालन संपन्‍न हुआ था।

 
 
 
श्री प्रणब मुखर्जी ने चुनाव प्रक्रिया में आम लोगों की भागीदारी के महत्‍व पर बल देते हुए कहा कि यह स्‍वस्‍थ लोकतंत्र की कुंजी है। उन्‍होंने सफल चुनाव संचालन से लोकतंत्र को मजबूत करने में निर्वाचन आयोग की भूमिका की सराहना की। उन्‍होंने कहा कि 2019 में 90 करोड़ से अधिक मतदाताओं की भागीदारी से निष्‍पक्ष चुनाव संपन्‍न कराना कोई आसान काम नहीं था। यह संख्‍या आबादी की दृष्टि से विश्‍व के तीसरे, चौथे और पांचवें देशों की कुल जनसंख्‍या के लगभग बराबर थी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS