ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में मामा ने चिकेन-राइस खिला मोबाइल चुराई, अपहरण बाद भांजे पॉलीटक्निक छात्र की हुई हत्या, फिर उसी फोन से मांगी जा रही थी रंगदारी, नाना व मामा सहित चार हिरासत मेंकोचिंग डिपो पदस्थापित एरीया मैनेजर मुकुंद बिहारी का विदाई समारोह मनाया गया, भावुक हुए लोगअनूठी पहल: रामगढ़वा ब्लॉक में चाइल्ड लाइन के सदस्यों ने चलाया दोस्ती अभियानएसएसबी 47वी बटालियन पनटोका के द्वारा युवाओं को दिया वाहन चलाने का प्रशिक्षणअनुमण्डल कार्यालय का डीएम रमण कुमार ने किया निरीक्षण7 सूत्री मांगों को लेकर निर्माण मजदूरों ने जिला समाहर्ता के समक्ष किया प्रदर्शनशेयर बाजार: लगातार चौथे दिन दूरसंचार शेयरों में तेजी, वोडाफोन-आइडिया के शेयर 32 फीसदी उछले‘पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी’ की थीम पर मनेगा पुरुष नसबंदी पखवाड़ा
नेपाल
नेपाल-भारत की पांचवें राउंड की संयुक्त आयोग की बैठक संपन्न, विदेश मंत्री जयशंकर के साथ इन मुद्दों पर हुई चर्चा
By Deshwani | Publish Date: 22/8/2019 11:14:29 AM
नेपाल-भारत की पांचवें राउंड की संयुक्त आयोग की बैठक संपन्न, विदेश मंत्री जयशंकर के साथ इन मुद्दों पर हुई चर्चा

काठमांडू। नेपाल और भारत के बीच पांचवें राउंड की संयुक्त आयोग की बैठक बुधवार को संपन्न हो गई। भारत और नेपाल के बीच संयुक्त सत्र की बैठक में पहुंचे विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दोनों देशों के बीच अहम द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की। जयशंकर और उनके नेपाली समकक्ष प्रदीप ग्यावली ने द्विपक्षीय संबंधों की व्यापक समीक्षा की और उनके बीच सहयोग के लिए प्राथमिकता वाले क्षेत्रों की पहचान की। इस दौरान दोनों देशों के बीच खाद्य सुरक्षा को लेकर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

 
नेपाल के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि नेपाल के खाद्य प्रौद्योगिकी और गुणवत्ता नियंत्रण विभाग(DFTQC) और भारत के भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्रधिकारण(FSSAI) के बीच दो मंत्रियों का मौजूदगी में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
 
 
बैठक के दौरान दोनों देशों के बीच द्वीपक्षीय संबंधों के विस्तार पर चर्चा की गई और विशेषकर कनेक्टिविटी और आर्थिक साझेदारी, व्यापार और पारागमन, बिजली और जलसंसाधन क्षेत्रों, संस्कृति और शिक्षा पर ध्यान केन्द्रित किया। इस दौरान संयुक्त आयोग ने उच्चस्तरीय यात्राओं के आदान-प्रदान के बाद नेपाल-भारत सबंधों के सभी पहलुओं पर उत्पन्न गति पर प्रसन्नता जताई।
 
इसके साथ 1950 की संधि का शांति और मित्रता की समीक्षा भी की गई। नेपाल-भारत संबंध पर (EPG-NIR) पर प्रख्यात व्यक्तियों के समूह की एक रिपोर्ट का आदान-प्रदान किया गया। इस दौरान आयोग ने मोतिहारी-अमलेखगंज पेट्रोलियम उत्पाद पाइपलाइन, हुलाकी सड़कों के चार खंडों, नुवाकोट और गारखा जिले में निजी आवासों के भूकंप के बाद पुनर्निर्माण जैसी द्विपक्षीय योजनाओं पर खुशी जाहिर की। आयोग ने जयनगर-जनकपुर और जोनबनी-बिराटनगर खंडों में सीमापार रेलवे परियोजनाओं और बिराटनगर में एकीकृत चेकपोस्ट की प्रगति पर भी शुशी जताई। नेपाल के विदेश मंत्रालय के अनुसार आयोग ने शेष परियोजनाओं को जल्द पूरा कर लेने पर सहमति जताई।
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल शुरू होने के बाद भारतीय पक्ष का यह पहला उच्चस्तरीय नेपाल दौरा है। कश्मीर के घटनाक्रम को देखते हुए जयशंकर को उच्च सुरक्षा प्रदान की गई है। जयशंकर अपने दो दिवसीय नेपाल दौरे में राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी सहित अन्य उच्चाधिकारियों से भी वार्ता करेंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS