ब्रेकिंग न्यूज़
'दंगल' फेम सुहानी भटनागर की प्रेयर मीट में पहुंचीं बबीता फोगाटबिहार:10 जोड़ी ट्रेनें 25 फरवरी तक रद्द,नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर रेलखंड की ट्रेनें रहेंगी प्रभावितप्रधानमंत्री ने मिजोरम के निवासियों को राज्‍य के स्‍थापना दिवस पर शुभकामनाएं दीउपराष्ट्रपति ने कहा- भारत सुषुप्‍त अवस्‍था से जागृत अवस्‍था में प्रवेश कर चुका हैमोतीहारी: गांधी कुष्ठ कॉलोनी में मरीजों के बीच खाद्य सामग्री व सफाई सामग्री के साथ-साथ कंबल का भी वितरण किया गयामहागठबंधन छोड़ नीतीश शामिल हुए एनडीए में, बिहार में बनी एनडीए की सरकारमोतीहारी: राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर महात्मा गांधी ऑडिटोरियम में नव मतदाता सम्मेलन का आयोजनउपराष्ट्रपति ने श्री हरिशंकर भाभड़ा के निधन पर शोक व्यक्त किया
राष्ट्रीय
महिलाओं की जनभागीदारी से झाबुआ की बदली कृषि की तस्वीर
By Deshwani | Publish Date: 8/2/2023 9:25:43 PM
महिलाओं की जनभागीदारी से झाबुआ की बदली कृषि की तस्वीर

दिल्ली भारत सरकार कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय एवं ट्रांसफार्म रूरल इंडिया फाउंडेशन के संयुक्त तत्वाधान में कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ के सभागार में प्रगतिशील महिला किसानों की संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें श्री संजीव कुमार इंग्ले, संयुक्त निदेशक, कृषि विस्तार, कृषि मंत्रालय, नई दिल्ली, डॉ. आई. एस. तोमर, सह निदेशक, कृषि अनुसंधान केंद्र झाबुआ, श्री नगीन सिंह रावत, उप संचालक, कृषि किसान कल्याण विभाग झाबुआ, श्री देवेंद्र श्रीवास्तव, जिला प्रबंधक, NRLM, श्री जी. एस. त्रिवेदी, परियोजना संचालक, आत्मा, श्री सचिन साकल्ले, TRIF संस्था प्रतिनिधि, श्री बल्लू सिंह चौहान उद्यानिकी विभाग झाबुआ कार्यक्रम में सामिल हुए। साथ ही लगभग 200 महिला कृषि उद्यमी एवं प्रगतिशील किसान उपस्थित रहे।

 
 
 
 
G20 का मुख्य उद्देश्य वसुधैव कुटुंबकम one earth one family one future  जिसके माध्यम से वैश्विक एकता की बात को प्रोत्साहित करना तथा कृषि के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने हेतु कृषि में हो रहे नवाचार का व्यापक रूप से प्रचार करना है। जैसे कृषि के क्षेत्र में आधुनिक तंत्र ज्ञान, स्मार्ट एग्रीकल्चर, डिजिटाइजेशन, वेल्यु एडिशन, प्रोसेसिंग, ग्रेडिंग एवं पैकेजिंग इत्यादि का प्रशिक्षण और क्षेत्र प्रदर्शन द्वारा जानकारी प्रदान करना है। G20 के मुख्य उद्देश्य को आगे बढ़ाते हुए आज झाबुआ के कृषि विज्ञान केंद्र में खेती में सर्वोत्तम प्रथाएं एवं जैविक खेती पर महिला कृषि उद्यमियों एवं प्रगतिशील किसानों की संगोष्ठी का आयोजन किया गया।
 
 
 
 
इस अवसर पर श्री इंग्ले ने अपने वक्तव्य में कृषि से संबंधित विभिन्न योजनाओं के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महिला किसान कृषि में हो रहे बदलाव को अपनाकर खेती में उसका उपयोग करें और कृषि एवं कृषि आधारित अन्य उद्यमों को योजना के अंतर्गत प्रशिक्षण लेकर समूह तथा समूह में भागीदार महिलाओं की आय बढ़ाने में मदद करें। उन्होंने कहा कि कृषि विज्ञान केंद्र के ज्ञान से सभी लोगों को लाभ होगा। किसानों के लिए सभी विभाग आपसी सहयोग से काम कर रहे हैं और उनके लिए योजनाएं बनाते हैं।
 
 
 
इस अवसर पर डॉ. तोमर ने कहा कि कोरोना ने हमें बहुत सीख दी है। कृषि का क्ष्रेत्र बहुत बड़ा है यदि कोई इसमें उद्यमी बनना चाहता है तो इसमें बहुत बढ़ा अवसर है। कई कंपनियां आपके उत्पाद को मार्केट में बेच रही हैं। उत्पादन बढ़ाना हमारा मुख्य उद्देश्य है। सभी लोग कृषि विज्ञान केंद्र आएं और इसका लाभ लें। यहां पर कई प्रकार के प्रशिक्षण चलाये जा रहे हैं जिनमें आप भागीदारी कर लाभ ले सकते हैं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS