ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने नागालैंड में मोन मेडिकल कॉलेज की आधारशिला रखीराष्ट्रपति ने गुरु रविदास जयंती की पूर्व संध्या पर देशवासियों को शुभकामनाएं दींनई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में खेलों को एक गौरवपूर्ण स्थान दिया गया है : प्रधानमंत्रीसीतामढ़ी के मेजरगंज में शहीद हुए सब इंस्पेक्टर दिनेश राम का मोतिहारी के बरनावाघाट पर राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कारकोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाले कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती- श्री तोमरपुद्दुचेरी में प्रधानमंत्री ने कई विकास परियोजनाओं की शुरूआत कीसमस्तीपुर: एक मार्च से कोविड-19 टीकाकरण के तीसरे फेज की होगी शुरुआतमोतिहारी के कई पुलिस पदाधिकारी इधर से उधर, छतौनी के नये एसएचओ विजय प्रसाद राय व नगर थानाध्यक्ष बने विजय प्रसाद राय,जबकि मधुबन एसएचओ पर हुई कार्यवाई
राष्ट्रीय
केरल, हरियाण व जयपुर में पक्षियों में एवियन इन्फ्लूएंजा की रोकथाम के लिए हजारों पक्षियों को मारा गया, नष्ट किए गए अंडे, बीमारी से लाखों चिड़ियों की मौत
By Deshwani | Publish Date: 7/1/2021 7:45:22 PM
केरल, हरियाण व जयपुर में पक्षियों में एवियन इन्फ्लूएंजा की रोकथाम के लिए हजारों पक्षियों को मारा गया, नष्ट किए गए अंडे, बीमारी से लाखों चिड़ियों की मौत

नई दिल्ली। केरल के अलाप्पुझा जिले के थालावाडी दक्षिण, थाकाझी, पल्लीपड एवं करुवट्टेन और कोट्टायम जिले के नीन्दूर गांवों के साथ हरियाणा व जयपुर में एवियन इन्फ्लूएंजा के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए चलाए गए गहन अभियान चलाए जा रहे हैं। इस अभियान के तहत इंफ्लूएंजा के लक्ष्ण पाए जानेवाले पक्षियों मारा गया है। दूसरी तरफ पक्षियों के अंडों व उनके चारे को भी नष्ट किए जा रहे हैं।


अलाप्‍पुझा जिले के एपिसेंटरों में कुल 17,326 पक्षियों (9,066 पल्लीपड में, 8,260 करुवट्टेन में) को मारा जा चुका है और कुल मिलाकर 1,570 किलोग्राम चारे को नष्ट किया गया है। कोट्टायम जिले में एपिसेंटर में 4,229 पक्षियों को मार दिया गया है और 6.01.2021 को कुल 8 किलोग्राम चारे और 42 अंडों को नष्ट कर दिया गया।


पीआईपी के अनुसार, पक्षियों को मारने के लिए अलाप्पुझा जिले के उपरोक्‍त 4 एपिसेंटरों में कुल 5 आरआरटी और कोट्टायम जिले के नीन्‍दूर एपिसेंटर में 8 आरआरटी तैनात किए गए हैं।  

हरियाणा से प्राप्त जानकारी के अनुसार, पिछले 25 दिनों में बरवाला, पंचकूला में कुल 4,30,267 पक्षियों की मौत हुई है। जांच के लिए इनके नमूनों को निर्धारित प्रयोगशाला में भेजा गया है जिनके परिणाम आना अभी बाकी है। राज्‍य ने इस बीमारी की रोकथाम और नियंत्रण के लिए 59 आरआरटी का गठन किया है।


इसके अलावा, राजस्थान में जयपुर के काले हनुमानजी फॉरेस्‍ट नाका से कौवों के कुछ नमूनों में एच5एन8 एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस के संक्रमण पाए गए हैं। तदनुसार, राज्यों को सलाह जारी की गई है ताकि पोल्ट्री तक इस बीमारी के प्रसार को रोका जा सके। आज हरियाणा में 7,111 घरेलू पक्षियों, मध्य प्रदेश में 150 जंगली पक्षियों, गुजरात में 10 कौवों और हिमाचल प्रदेश में 336 प्रवासी पक्षियों में असामान्य मृत्‍यु पाई गई।

 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS