ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल: बीरगंज के नारायणी अस्पताल में हुए पिसिआर परिक्षण में 141 लोग कोरोना संक्रमित पाये गयेमुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वाल्मीकिनगर से बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा कियाडंकन अस्पताल रक्सौल में कोविड-19 का जाँच और उपचार शुरुकोरोना वायरस: जिला पदाधिकारी ने संक्रमित मरीजों के निवास स्थानों को कंटेन्मेंट जोन बनाने दिया निर्देशरक्सौल: प्रखंड प्रमुख संजीव कुमार सिन्हा ऊर्फ मुन्ना सिन्हा के असामायिक निधन पर श्रधांजलि सभा का किया गया आयोजनप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए किया भूमि पूजन, पूरे देश में जश्न का माहौलपश्चिम चंपारण: सरकार के प्रतिबंध के बावजूद बालू का अवैध उत्खनन जारीराधा मोहन सिंह ने कहा- राम मंदिर की नींव पर रखी जाने वाली प्रत्येक ईंट राष्ट्र गौरव को शिखर की ओर ले जाएगी
राष्ट्रीय
राज्यों के चिकित्सकों को एम्स विशेषज्ञ कोविड-19 के बारे में मार्गदर्शन उपलब्ध कराएंगे
By Deshwani | Publish Date: 9/7/2020 1:04:16 PM
राज्यों के चिकित्सकों को एम्स विशेषज्ञ कोविड-19 के बारे में मार्गदर्शन उपलब्ध कराएंगे

दिल्ली नई दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान-एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सक, राज्यों के अस्पतालों में आईसीयू में काम करने वाले डॉक्टरों को कोविड-19 पर विशेषज्ञ मार्गदर्शन और जानकारी मुहैया कराएंगे। इसके लिए दस अस्पतालों का चयन किया गया है, जिनमें नौ मुंबई और एक गोवा के हैं। यह टेली-परामर्श सुविधा पांच सौ से एक हजार बिस्‍तरों वाले 61 अन्‍य अस्पतालों में भी सप्ताह में दो बार उपलब्‍ध कराई जाएगी।

 
 
 
 
इस महीने की 31 तारीख तक राज्यों को यह सुविधा उपलब्‍ध कराने के लिए इन विशेषज्ञ आधारित टेली-परामर्श सत्रों का एक कैलेंडर तैयार किया गया है। हमारे संवाददाता ने खबर दी है कि ऐसे कुल 17 राज्यों को यह सुविधा मुहैया कराई जाएगी। ये राज्‍य हैं-दिल्ली, गुजरात, तेलंगाना, केरल, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, बिहार, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, हरियाणा, ओडिशा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, झारखंड और महाराष्ट्र। इस टेली परामर्श में सम्‍बंधित राज्य के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक सहित प्रत्येक अस्पताल में आईसीयू के दो प्रभारी चिकित्‍सक भाग लेंगे। दिल्ली के एम्स में पल्मोनरी मेडिसिन के विभागध्‍यक्ष डॉक्‍टर अनंत मोहन ने आज टेली परामर्श के पहले सत्र को सम्‍बोधित किया। आकाशवाणी समाचार से विशेष बातचीत में उन्‍होंने कहा कि इस का उद्देश्‍य देश में मृत्‍यु दर को और नीचे लाना है। डॉक्‍टर मोहन ने कहा कि इस तकनीक से देशभर में डॉक्टरों को अधिकतम मरीजों का इलाज करने में मदद मिलेगी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS