ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी के कोटवा में सरेह में दो लोगों को घायल करने के बाद तेंदुआ घुसा एक घर में, घरवालों ने छत पर ली शरण, वाल्मीकिनगर से आ रही रेस्क्यू टीमपटना के युवाओं में प्रतिभा भरपूर : ईशान किशनरक्सौल: छापेमारी कर चावल बजार से 119 बोरा अवैध उर्वरक बरामद, दुकान सील, दुकानदार गिरफ्ताररक्सौल में आरपीएफ ने छापेमारी कर रेल टिकट किया बरामद, एक गिरफ्तारभारतीय नागरिकों के नेपाल प्रवेश पर रोक लगाने के विरोध में भारत-नेपाल सीमा के मैत्री पुल पर जमकर हुआ बवालनेपाल: देशभक्त राजभक्त समूह पर्सा ने वीरगंज महाबीर मंदिर के पास सम्मान कार्यक्रम का किया आयोजनमौसम विभाग: चक्रवाती तूफान निवार 11 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहाबंगलादेश: राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मोजिबुर्रहमान को श्रद्धांजलि देने के लिए कल ढाका में लगाई गई एक चित्र प्रदर्शनी
राष्ट्रीय
6 जुलाई से शुरू हो रहा है सावन का महीना, भगवान शिव का प्रिय होता है यह महीना
By Deshwani | Publish Date: 5/7/2020 6:35:07 PM
6 जुलाई से शुरू हो रहा है सावन का महीना, भगवान शिव का प्रिय होता है यह महीना

चतुर्मास मे श्रावण मास का विशेष महत्व होता है यह महीना श्रवणा नक्षत्र के योग से प्रारंभ होता है। जो हरियाली एवं समृद्धि का प्रतीक है, श्री गायत्री ज्योतिष अनुसंधान केन्द्र के आचार्य शिवेन्द्र पाण्डेय  ने बताया कि इस वर्ष श्रावण मास का प्रारंभ 6 जुलाई सोमवार से हो रहा है। पूरे माह में पांच सोमवार होने से इस माह की महत्ता अधिक हो रही है। विशेष रूप से कृष्णपक्ष में ही तीन सोमवार होना एवं सोमवती अमावस्या अत्यंत शुभ फल को प्रदान करने वाला है।

 
 
भगवान शिव को यह मास इसलिए अधिक प्रिय है कि माता पार्वती ने भगवान को अपने पति रूप में प्राप्त करने के लिए इस मास में वर्षा में भीगकर धुआँ पीकर एवं भयावह वन में रहकर घोर तपस्या की थी। उस तप के प्रभाव से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने पति बनने का वर दिया। तभी से यह महिना शिव को अत्यंत प्रिय हो गया। यह महिना प्रकृति एवं पुरूष का सम्मिश्रण का सूचक भी है। जहाँ एक तरफ प्रकृत्ति मे वर्षा होने से हरियाली होती है तो दूसरे तरफ धर्म की ध्वजा चारो तरफ भगवा रंग से आच्छादित हो जाता है।
 
 
आचार्य जी ने बताया कि भगवान शिव जल धारा से प्रसन्न होते हैं। अर्थात शिव की प्रसन्नता के लिए रूद्राभिषेक जिसमे मुख्य रूप से पंचामृत वर्षाजल भांगरस गन्नारस कुशजल फलादि रस एवं सुगंधित द्रव्यो से अभिषेक कराकर शिव तांडव आदि स्तुति करने से शिव अत्यंत प्रसन्न होकर मनोवांछित फल प्रदान करते हैं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS