ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
राष्ट्रीय
कोरोना : दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से निकलकर छिप गए कोरोना संक्रमित लोग, प्रशासन खोजबीन में जुटा
By Deshwani | Publish Date: 1/4/2020 9:34:33 AM
कोरोना : दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से निकलकर छिप गए  कोरोना संक्रमित लोग, प्रशासन खोजबीन में जुटा

नई दिल्ली । निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात का मरकज कोरोना वायरस संक्रमण का सबसे बड़ा केंद्र बनकर सामने आया है। मरकज से निकलकर सैकड़ों लोग विभिन्न राज्यों में छिप गए हैं। आशंका है कि दिल्ली से पलायन करने वाले दिहाड़ी मजदूरों के बीच में शामिल होकर ये निकल गए। अब ये जहां गए हैं, वहां कोरोना फैलने का खतरा है। इनके आसपास वालों को अहसास तक नहीं कि उनके बीच इतनी खतरनाक बीमारी बांटने वाले लोग मौजूद हैं।

पुलिस इन लोगों की जानकारी जुटाकर मोबाइल लोकेशन से तलाश में जुटी है।प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन का एलान किया तो दिल्ली से हजारों मजदूरों ने अपने गांवों की ओर पैदल ही पलायन शुरू कर दिया। सूत्र बताते हैं कि इन्हीं के साथ मरकज से निकले लोग भी पैदल ही यूपी की ओर गए। सूत्रों का कहना है कि ये लोग बसों व ट्रकों के माध्यम से यूपी के कई जिलों में पहुंचे और वहां जाकर छिप गए। इन लोगों और इनके संपर्क में आए लोगों की तलाश में पुलिस जी-जान से जुटी है।

निजामुद्दीन मरकज का कनेक्शन दिल्ली समेत 19 राज्यों से जुड़ रहा है। इनमें महाराष्ट्र, असम, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, पुड्डुचेरी, तमिलनाडु , कर्नाटक, अंडमान-निकोबार, आंध्र प्रदेश और कश्मीर हैं।तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में देश-विदेश के 8 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। सूत्रों का कहना है कि देशभर में लॉकडाउन होते ही मरकज में शामिल कुछ लोग 23 मार्च के बाद पैदल ही दूसरी जगह के लिए निकल गए।

सूत्रों के मुताबिक, आनंद विहार के रास्ते इन्होंने यूपी में प्रवेश किया और पहचान छिपाते हुए खुद को मजदूर बताकर पुलिस को चकमा दिया। अब इस जानकारी के बाद उत्तर प्रदेश में पूरे प्रशासन के हाथ-पांव फूूलने लगे हैं। पुलिस ने निजामुद्दीन इलाके में लगे सभी सीसीटीवी कैमरों को खंगालकर इनकी पहचान की बात कही, लेकिन खुलकर कुछ कहने को तैयार नहीं है।

भीड़ में शामिल होने से त्रासदी का खतरा:
विशेषज्ञों का कहना है कि मरकज से निकले लोग मजदूरों की भीड़ मेें हुए तो बड़ी त्रासदी हो सकती है। इनमें से एक भी कोरोना वायरस से पीड़ित हुआ तो वह सैैकड़ों लोगों को संक्रमित कर चुका होगा। अब इन सैकड़ों लोगों से कितनों में संक्रमण फैलेगा, यह कल्पना ही सिहराने वाली है।

बसों और ट्रकों से पहुंचे घर:
सूत्रों का कहना है कि मरकज से निकले लोग यूपी के कई जिलों मेंअपने घर 24 से 27 मार्च के बीच पहुंचे हैं। बिजनौर और शामली जिलों में पकड़े गए मरकज से निकले लोगों ने इस बात को स्वीकारा है। इसके बाद पुलिस उन बसों व ट्रकों की जानकारी जुटाने में लग गई है। माना जा रहा है कि घरों तक आते वक्त ये लोग सैकड़ों लोगों के संपर्क में आए होंगे।

अब उन सभी को संक्रमण का खतरा है। पुलिस ने सभी को पकड़कर क्वारंटीन कर जांच के लिए भेज दिया है। अब इंतजार है उनकी रिपोर्ट के आने का। कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव निकली तो समस्या बड़ी हो सकती है, जिसकी आशंका केंद्र और यूपी सरकार को भी है। इसके मद्देनजर पुलिस लगातार उत्तर प्रदेश में कई मस्जिदों में छापेमारी कर रही है।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS