ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
राष्ट्रीय
दिल्ली से नहीं रुक रहा पलायन, अपने घर जाने के लिए आनंद विहार पर उमड़े हजारों लोग
By Deshwani | Publish Date: 29/3/2020 8:21:36 AM
दिल्ली से नहीं रुक रहा पलायन, अपने घर जाने के लिए आनंद विहार पर उमड़े हजारों लोग

◆मजदूर, रिक्शा चालक और फैक्ट्री कर्मचारी अपने अपने गांव की ओर लौटने के लिए हजारों की तादाद में निकल पड़े हैं।

नई दिल्ली। देशभर में मजदूरों का पलायन एक बड़ी चुनौती है। घर लौटने के लिए हजारों की तादाद में निकले लॉकडाउन के चौथे दिन शनिवार को देशभर में मजदूरों का अपने-अपने घर के लिए पलायन एक बड़ी चुनौती बनकर सामने दिखा। इससे निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों ने कई कदम उठाए हैं। दिल्ली-एनसीआर का हाल सबसे बुरा है, जहां मजदूर, रिक्शा चालक और फैक्ट्री कर्मचारी अपने अपने गांव की ओर लौटने के लिए हजारों की तादाद में निकल पड़े हैं।

दिल्ली के आनंद विहार अंतरराज्यीय बस अड्डे पर शनिवार शाम पलायन करने वाले लोगों की भारी भीड़ लग गई जहां बदइंतजामी देखने को मिली। हालांकि सिर्फ दिल्ली-एनसीआर ही नहीं बल्कि देश के दूसरे छोटे बड़े शहरों से भी लोगों का पलायन यूं ही जारी है। चाहे वो कानपुर हो, सोनीपत हो या फिर सिरसा या आगर मालवा।

दिल्ली-एनसीआर बॉर्डर पर लाइन में खड़ा एक मजदूर ने कहा कि खाना नहीं है, काम नहीं है, मर जाएंगे यहां सामने आने वालीं तस्वीरें बताती हैं कि अजीब सी दहशत भर गई है इन दिलों में, अजीब सी तड़प उठी है घर पहुंच जाने की, जो जहां था, वहीं से निकल गया शहर से गावों गिरांव की ओर मजदूरों को कोरोना से संक्रमित हो जाने की कोई चिंता नहीं है। किसी दूसरे को संक्रमित कर देने का अंदेशा भी नहीं है। इन्हें घर जाना है, और इसीलिए बस में कैसे भी टिक जाने की बेताबी है।

आऩंद बिहार बस बड्डे पर भी मजदूरों का ऐसा ही रेला है। जेबें खाली हैं, परिवार को पालने कि चिंता ने चाल में रफ्तार ला दी है। जो मजदूर दिल्ली शहर को सुंदर बनाने के लिए अपना पसीना बहाता था, अट्टालिकाओं पर रस्सी के सहारे चढ़कर उन्हें सतरंगी बनाता था, जो मिलों में अपनी सांसों को धौंकनी बना देता था...वो मजदूर चल पड़ा है, सिर पर गठरी लादे, हाथ में बच्चा उठाए।

◆कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

ओखला मंडी में काम करने वाले मजदूरों को मालूम है कि दिल्ली से बहराइच की दूरी 600 किलोमीटर है। रास्ते बंद हैं बसें बंद हैं। ट्रेन बंद हैं...फिर भी चल पड़े हैं पांव. ऐसे एक नहीं हजारों हजार मजदूर हैं। कोई पैदल पटना निकल पड़ा है, कोई कदमों से नाप लेना चाहता है समस्तीपुर की दूरी। कोई जाना चाहता है गोरखपुर, झांसी बहराइच, बलिया बलरामपुर,बेेतिया, मोतिहारी, तथा अन्य जगहों पर जनाा चाहते हैं।ले

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS