ब्रेकिंग न्यूज़
चीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौतनफरत को खत्म करने, संविधान को बचाने, एन आर सी, सी ए ए जैसे काले कानून के खिलाफ भारत के गंगा-जमुनी तहजीब का नमूना है शाहीन बाग: पप्पू यादवधार्मिक कार्यक्रम में जा रहे हजारों भारतीयों को नेपाल ने करोना वायरस की आशंका से गुरुवार की रात्रि रोका, वार्ता के बाद आज मिली एन्ट्रीपुलवामा हमले के शहीदों को राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि
राष्ट्रीय
रक्षा खरीद परिषद ने देश में रक्षा उपकरणों के निर्माण को बढ़ावा देने के लिए 5000 करोड़ से अधिक मूल्य के रक्षा उपकरण खरीदने की दी मंजूरी
By Deshwani | Publish Date: 22/1/2020 12:02:26 PM
रक्षा खरीद परिषद ने देश में रक्षा उपकरणों के निर्माण को बढ़ावा देने के लिए 5000 करोड़ से अधिक मूल्य के रक्षा उपकरण खरीदने की दी मंजूरी

नई दिल्ली रक्षा खरीद परिषद ने देश में रक्षा उपकरणों के निर्माण बढ़ावा देने के लिए पांच हजार करोड़ से अधिक मूल्‍य के उपकरण खरीदने के प्रस्‍ताव को मंजूरी दी है। इन उपकरणों में सेना के लिए अत्‍याधुनिक इलेक्‍ट्रॉनिक युद्ध प्रणाली भी शामिल हैं, जिसे रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने डिजाइन किया है तथा भारतीय उद्योगों ने स्‍थानीय रूप से तैयार किया है। इन प्रणालियों को मरूस्‍थलों और मैदानी क्षेत्रों में इस्‍तेमाल किया जाएगा। इलेक्‍ट्रॉनिक युद्ध के विभिन्‍न पहलुओं और मैदान पर संचार व्‍यवस्‍था को चुस्‍त बनाने के लिए यह प्रणाली कारगर सिद्ध होगी।

 
 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्‍यक्षता में कल रक्षा खरीद परिषद की बैठक हुई जिसमें सशस्‍त्र सेनाओं की आवश्‍यकता के उपकरणों की खरीद के कई प्रस्‍तावों पर विचार किया गया। एक ओर महत्‍वपूर्ण फैसले में रक्षा खरीद परिषद ने भारतीय रणनीतिक साझेदारों और मौलिक उपकरण बनाने वाले संभावित संगठनों की सूची तैयार करने को भी मंजूरी दी। इस कार्यक्रम के अंतर्गत छह परम्‍परागत पनडुब्बियों को भारत में बनाने के लिए उपकरण निर्माता भारतीय रणनीतिक साझेदारों के साथ सहयोग करेंगे। यह कार्यक्रम रक्षा क्षेत्र के उपकरणों को भारत में ही बनाने के लिए 2017 में शुरू किए गए मेक इन इंडिया अभियान का हिस्‍सा है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS