ब्रेकिंग न्यूज़
ड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षितमहागठबंधन से अलग हुआ रालोसपा, उपेंद्र कुशवाहा ने मायावती की बसपा के साथ मिलकर बनाया नया मोर्चाबिहारी मूल के निर्देशक अभिषेक के इस गाने मे पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे भी आ रहें हैं नज़रबिधान सभा चुनाव को लेकर रक्सौल पुलिस और नेपाल पुलिस अधिकारियों के बीच हुई बैठकहाथरस गैंगरेप पर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर हमला बोला, कहा-यूपी में कानून व्यवस्था हद से ज्यादा बिगड़ चुकी हैगैंगरेप पीड़िता के भाई ने पुलिस पर लगाया लापरवाही का आरोप, आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा की मांग कीअयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में फैसला कल, अयोध्या समेत समूचे उत्तर प्रदेश में हाई अलर्टप्रधानमंत्री मोदी ने नमामि गंगे के तहत 521 करोड़ की परियोजनाओं का उत्तराखंड में किया लोकार्पण
राष्ट्रीय
परीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं - मोदी, परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी ले रहे भाग
By Deshwani | Publish Date: 20/1/2020 3:44:06 PM
परीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं - मोदी, परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी ले रहे भाग

नई दिल्ली। नई दिल्‍ली के तालकटोरा स्‍टेडियम में प्रधानमंत्री मोदी अपने परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में विद्यार्थियों, अध्‍यापकों और अभिभावकों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा है कि परीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं हैं इसलिए विद्यार्थियों को इस सोच से बाहर निकलना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि शिक्षा का उद्देश्‍य नई चीजें सीखने का केवल एक तरीका है और विदयार्थियों को ज्‍यादा से ज्‍यादा ज्ञान प्राप्‍त करना चाहिए। 


एक सवाल के जवाब में श्री मोदी ने कहा कि विफलता में भी सफलता का रास्‍ता ढूंढा जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि परीक्षा के दौरान पढ़ाई के अलावा अन्‍य कारणों से भी परिणाम प्रभावित हो सकते हैं। प्रधानमंत्री ने पठन पाठन के अलावा अन्‍य गतिविधियों के महत्‍व पर जोर देते हुए कहा कि ऐसी गतिविधियां में भाग नहीं लेने से व्‍यक्ति रॉबोट की तरह हो जाता है।

उन्‍होंने कहा कि अस्‍थाई विफलता का यह मतलब नहीं है कि सफलता आपका इंतजार नहीं कर रही है, वास्‍तव में विफलता का मतलब है कि आपका सबसे अच्‍छा योगदान आना अभी बाकी है। उन्‍होंने विद्यार्थियों से चन्‍द्रयान-2 का अनुभव साझा किया और कहा कि वे वैज्ञानिकों के प्रयासों की सराहना करते हैं, जिन्‍होंने देश की आकांक्षाओं को पूरा करने के भरपूर प्रयास किए। श्री मोदी ने कहा कि प्रत्‍येक विफलता से व्‍यक्ति कुछ सीखता है।
 
प्रधानमंत्री का परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम का यह तीसरा संस्‍करण है। रविवार के कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी, शिक्षक और अभिभावक भाग ले रहे हैं।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS