ब्रेकिंग न्यूज़
छात्रों और गरीबों के घर में शादी में उपलब्‍ध करायेंगे 25 रुपये किलो प्याज : पप्‍पू यादवप्रेसिडेंसीएल डिबेट में JACP – AISF के उम्‍मीदवार मनीष कुमार ने कहा - जीते तो शिक्षा के साथ सुरक्षा और सम्मान की गारंटी मेरीजम्मू कश्मीर में गांव वापसी कार्यक्रम के दौरान पुलिस और नागरिक प्रशासन की सेवाएं सराहनीय रही: गिरिश चंद्र मुर्मूआज वित्त वर्ष की पांचवी द्वि-मासिक मौद्रिक नीति की घोषणा करेगा रिजर्व बैंकहैदराबाद दुष्कर्म एवं जघन्य हत्या मामले में संसद सदनों से निकली एक आवाज़ दोषियों को कड़ी सजा की मांगआईसीसी टेस्ट बल्लेबाजी रैंकिंग में फिर से प्रथम स्थान पर भारतीय कप्तान विराट कोहलीअमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने चीन के उइगर मुसलमानों को यातनाएं दिए जाने के खिलाफ पारित किया एक विधायकझारखंड में विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के प्रचार का आज अंतिम दिन
राष्ट्रीय
राष्ट्रपति शासन लागू होने पर भड़की शिवसेना, कहा- महाराष्ट्र में जारी गतिरोध का BJP उठा रही है आनंद
By Deshwani | Publish Date: 13/11/2019 1:42:44 PM
राष्ट्रपति शासन लागू होने पर भड़की शिवसेना, कहा- महाराष्ट्र में जारी गतिरोध का BJP उठा रही है आनंद

मुंबई। शिवसेना ने भाजपा पर तीखा हमला बोलते हुए आज कहा कि महाराष्ट्र में दूसरी पार्टियों के सरकार गठन की मुश्किलों का भाजपा आनंद उठा रही है। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध के बीच मंगलवार को राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की केन्द्र को भेजी उस रिपोर्ट के बाद यह निर्णय लिया गया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि सभी प्रयासों के बावजूद वर्तमान हालात में राज्य में स्थिर सरकार का गठन संभव नहीं है। हालांकि उनके इस फैसले की गैर-भाजपा दलों ने खुलकर आलोचना की है।

 
गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव परिणाम की घोषणा के 19वें दिन जारी राजनीतिक गतिरोध के बीच कांग्रेस-एनसीपी ने कहा था कि उन्होंने सरकार बनाने के लिए शिवसेना को समर्थन देने के प्रस्ताव पर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया। शिवसेना की ओर से दोनों दलों को यह प्रस्ताव सोमवार को मिला और वह अभी इस पर विचार करना चाहते हैं। पिछले महीने हुए विधानसभा चुनाव में कुल 288 सदस्यीय सदन में से भाजपा के हिस्से में 105 सीटें आयी थीं जबकि शिवसेना को 56, राकांपा को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें मिलीं। सत्ता में साझेदारी को लेकर नाराज शिवसेना ने भाजपा के बिना एनसीपी-कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने का प्रयास किया। लेकिन ऐसा नहीं होने पर पार्टी मंगलवार को उच्चतम न्यायालय पहुंच गयी। 
 
 
शिवसेना ने अपनी अर्जी में राज्यपाल के फैसले को चुनौती देते हुए मामले की तत्काल सुनवाई करने का अनुरोध किया। इससे पहले भाजपा ने पर्याप्त संख्याबल नहीं होने का हवाला देते हुए रविवार को सरकार बनाने में असमर्थता जताई थी। शिवसेना ने दावा किया कि अगर 105 विधायकों वाला दल सरकार नहीं बना पा रहा, तो दूसरों को तो निश्चित ही दिक्कत आएगी। लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि सबसे बड़ी पार्टी इस परिस्थिति का आनंद उठाए। इस रवैये के कारण ही महाराष्ट्र इस स्थिति में पहुंचा है।' उसने कहा कि सबसे बड़े दल को सरकार बनाने के लिए 15 दिन का वक्त दिया गया लेकिन शिवसेना को महज 24 घंटे। शिवसेना ने कहा कि सभी विधायकों से हस्ताक्षर कैसे कराए जा सकते हैं, जबकि कुछ राज्य के बाहर हैं? ‘‘यह राज्य तंत्र का दुरुपयोग है? '
 
उसने कहा, ‘‘ यह स्पष्ट होने के बावजूद की तीनों दलों (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) को सही समन्वय स्थापित करने की जरूरत है, राजभवन ने केवल 24 घंटे दिए और आवश्यक समर्थन जुटाने में विफल रहने के बाद, भाजपा इस पर खुश मनाती दिखी, यह अच्छा संकेत नहीं है।' शिवसेना ने तंज कसते हुए कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि कोई सरकार ना बनने को लेकर अधिक खुश है। मराठी दैनिक समाचार पत्र ने कहा कि जो लोग राजनीति में नैतिकता की बात करते हैं, वर्तमान राजनीति में वे ही सबसे अधिक विघटनकारी हैं। इसमें आरोप लगाया गया कि विपक्ष में बैठने का भाजपा का फैसला उसकी रणनीति नहीं बल्कि किसी साजिश का हिस्सा है।
 
शिवसेना ने कहा कि जनादेश भाजपा और शिवसेना के लिए था। अगर भाजपा ने अपना वादा पूरा किया होता तो हमें कोई और विकल्प नहीं खोजना पड़ता। भाजपा अगर सिद्धांतों, नैतिकता और शिष्टाचार की पार्टी होने की बात करती है, तो विधानसभा चुनाव के बाद उसे इसका पालन करना चाहिए था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS