ब्रेकिंग न्यूज़
समस्तीपुर डीएम ने कहा- जो भी दुकान व मॉल में संचालक व कर्मी बिना मास्क के पाए गए तो उस दुकान व मॉल को सील कर दिया जायेगावीरगंज पुलिस ने भारी मात्रा में नशीली दवा के साथ दो भारतीय व एक नेपाली नागरिक को किया गिरफ्तारमोतिहारी के बंजरिया में पुलिस द्वारा सील मकान से ट्रक पर लादे जा रहे बिजली विभाग से चोरी के तार के साथ वाहन मालिक सहित 7 गिरफ्ताररामगढ़वा मे 13 वर्षीय नाबालिग से घर बुला कर जबरन किया दुष्कर्म, चार नामजदसमस्तीपुर : लद्दाख में शहीद अमन की विधवा को मिली नौकरी, डीएम ने दिया नियुक्ति पत्रसमस्तीपुर : समस्तीपुर में कोरोना से युवा व्यवसायी की मौत, छह लोगों की हो चुकी है अबतक मौतमोतिहारी की छतौनी पुलिस ने लकड़ी लदे ट्रक में छुपाकर रखी भारी मात्रा में शराब जब्त की, 6 गिरफ्तार, झखिया में देनी थी डिलेवरीमोतिहारी के कल्याणपुर में पूर्व प्रमुख के पति की रड व चाकू से गोदकर हत्या, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रकाश अस्थाना के छोटे भाई जेपी अस्थाना भी गंभीर घायल
राष्ट्रीय
राष्ट्रपति कोविंद ने स्वीकारा अरविंद सावंत का इस्तीफा, जावड़ेकर संभालेंगे उद्योग मंत्रालय
By Deshwani | Publish Date: 12/11/2019 12:19:30 PM
राष्ट्रपति कोविंद ने स्वीकारा अरविंद सावंत का इस्तीफा, जावड़ेकर संभालेंगे उद्योग मंत्रालय

नई दिल्ली। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज शिवसेना सांसद अरविंद सावंत का केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। प्रवक्ता के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह के बाद सावंत का इस्तीफा स्वीकार किया गया। बता दें कि सोमवार को भाजपा पर वादाखिलाफी का आरोप लगाकर अरविंद सावंत ने इस्तीफा दे दिया था। मोदी कैबिनेट में भारी उद्योग मंत्री थे। 

 
प्रवक्ता ने बताया कि प्रधानमंत्री की सलाह के मुताबिक राष्ट्रपति ने निर्देश दिया है कि केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को उनके वर्तमान प्रभार के अलावा भारी उद्योग एवं लोक उद्यम मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार भी सौंपा जाए। बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव पर हुए मतदान के बाद आए नतीजों के बाद से राज्य में राजनीतिक गतिरोध चल रहा है।
 
शिवसेना भाजपा से 50-50 फार्मूले की मांग कर रही है यानि कि ढ़ाई साल के लिए शिवसेना का मुख्यमंत्री और ढ़ाई साल के लिए भाजपा के मुख्यमंत्री की मांग की जा रही है। वहीं भाजपा शिवसेना को मुख्यमंत्री पद देने को तैयार नहीं है। भाजपा ने कहा कि ऐसे कोई वादा नहीं हुआ। मुख्यमंत्री पद न मिलने के चलते शिवसेना ने भाजपा से 30 साल पुरानी दोस्ती तोड़ने के बाद कांग्रेस और एनसीपी के साथ सरकार बनाने की कवायद में जुटी है। हालांकि अब तक संशय बरकरार है कि राज्य में किसकी सरकार बनेगी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS