ब्रेकिंग न्यूज़
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद डॉ. जायसवाल ने रक्सौल में एसआरपी मेमोरियल हॉस्पिटल का किया उदघाट्नराफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर अमित शाह ने कहा- राष्ट्र से माफी मांगें कांग्रेस नेताINDvsBAN: पहले दिन का खेल समाप्‍त, भारत का स्‍कोर 1 विकेट पर 86 रनशादी की पहली सालगिरह पर त‍िरुपति पहुंचे रणवीर-दीपिका, देखें PHOTOबाल दिवस पर चाचा नेहरू को किया याद, बच्चों के बीच बांटी गई पठन-पाठन की सामग्रीविश्व मधुमेह दिवस पर सभी सरकारी अस्पतालों लगा जांच शिविर, स्वास्थ्यकर्मियों ने निकाली जागरूकता रैलीबेतिया के गन्ना किसानों के 150599.37 लाख रूपये का भुगतान हुआ: डॉ देवरेचम्पारण प्रक्षेत्र के डीआईजी व बेतिया एसपी ने शिकारपुर थाना का किया निरीक्षण
राष्ट्रीय
सूचना आयोग में खाली पड़े पदों पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र सहित कई राज्‍य सरकारों को जारी हुआ नोटिस
By Deshwani | Publish Date: 6/11/2019 1:28:11 PM
सूचना आयोग में खाली पड़े पदों पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र सहित कई राज्‍य सरकारों को जारी हुआ नोटिस

-पश्चिम बंगाल, आंध्रप्रदेश, ओडिशा, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गुजरात, केरल और कर्नाटक सरकार को निर्देश
 

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना आयो‍ग सहित कई राज्‍यों में राज्‍य सूचना आयो‍ग के खाली पड़े पदों को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने सख्‍त रुख अपनाया है। कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार और कई राज्‍य सरकारों को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने केंद्र और राज्‍यों को इस मामले में 4 हफ्तों के भीतर स्‍टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश दिए हैं।

याचिका आरटीआई कार्यकर्ता अंजलि भारद्वाज ने दायर किया है। याचिका में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट के पहले के आदेश के बावजूद केंद्रीय सूचना आयोग और राज्य सूचना आयोगों में खाली पड़े पदों को नहीं भरा गया है। अंजलि भारद्वाज की ओर से वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों ने नियुक्ति के लिए उम्मीदवारों का चयन भी नहीं किया है।

दरअसल,  दिसम्बर 2018 में केंद्र सरकार ने कहा था कि केंद्रीय सूचना आयोग में खाली पद जल्द ही भर लिए जाएंगे। केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उसे केंद्रीय सूचना आयुक्त के लिए 65 और सूचना आयुक्तों के लिए 280 आवेदन मिले हैं। योग्य नामों का चयन कर लिया गया है।

केंद्र सरकार ने कहा कि इस बारे में जल्द ही अंतिम निर्णय ले लिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा कि वो आवेदकों के नाम, सेलेक्शन का पैमाना और सर्च कमेटी का ब्यौरा कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग की वेबसाइट पर डालें।

पहले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने केंद्र सरकार, पश्चिम बंगाल, आंध्रप्रदेश, ओडिशा, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गुजरात, केरल और कर्नाटक सरकार को निर्देश दिया था कि वे केंद्रीय और राज्य सूचना आयुक्तों की नियुक्ति के लिए उठाए गए कदम पर प्रगति रिपोर्ट दाखिल करें।

सूचना का अधिकार कानून के तहत सूचना आयोग पाने संबंधी मामलों के लिए सबसे बड़ा और आखिरी संस्थान है। हालांकि सूचना आयोग के फैसले को हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है। सबसे पहले आवेदक सरकारी विभाग के लोक सूचना अधिकारी के पास आवेदन करता है। अगर 30 दिनों में वहां से जवाब नही मिलता है तो आवेदक प्रथम अपीलीय अधिकारी के पास अपना आवेदन भेजता है।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS