ब्रेकिंग न्यूज़
सिताब दियारा में लगा परिवार नियोजन कैंप, महिलाओं ने अस्थाई साधनों को अपनायाकाबुल में सैनिक ट्रेनिंग सेंटर के बाहर आत्मघाती हमला, 4 जवान घायलमहाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर पवार बोले, बीजेपी-शिवसेना से पूछो सरकार कैसे बनेगीबेतिया में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या2019 का ये आखिरी सत्र है, हम चाहते हैं सभी मुद्दों पर उत्तम संवाद हो: प्रधानमंत्री मोदीशीतकालीन सत्र: साइकिल से संसद भवन पहुंचे सांसद मनोज तिवारी, केजरीवाल सरकार के लिए कही ये बातसंदिग्ध अवस्था में युवक की मौत, पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा वजहINX मीडिया केस: पी. चिदंबरम की जमानत याचिका पर 20 नवम्बर को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट
राष्ट्रीय
अयोध्या मामला: मुस्लिम और हिंदू पक्षकारों ने सुप्रीम कोर्ट में दायर किया मोल्डिंग ऑफ रिलीफ
By Deshwani | Publish Date: 19/10/2019 2:24:21 PM
अयोध्या मामला: मुस्लिम और हिंदू पक्षकारों ने सुप्रीम कोर्ट में दायर किया मोल्डिंग ऑफ रिलीफ

-  हिन्दू महासभा, निर्मोही अखाड़ा, रामजन्म भूमि पुनरुद्धार समिति और रामलला विराजमान की ओर से भी मोल्डिंग ऑफ रिलीफ पर लिखित हलफनामा दाखिल किया गया
- मुस्लिम पक्षों ने संयुक्त रूप से मोल्डिंग ऑफ रिलीफ पर लिखित हलफनामा सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया

नई दिल्ली।
अयोध्या मामले में आज आखिरी दिन सभी मुस्लिम पक्षों ने संयुक्त रूप से मोल्डिंग ऑफ रिलीफ पर लिखित हलफनामा दाखिल किया। इनके अलावा निर्मोही अखाड़ा, हिन्दू महासभा, रामजन्म भूमि पुनरुद्धार समिति और रामलला विराजमान की ओर से भी मोल्डिंग ऑफ रिलीफ पर लिखित हलफनामा दाखिल किया गया।

हिन्दू महासभा ने मोल्डिंग ऑफ रिलीफ़ पर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में कहा है कि राममंदिर के निर्माण पर पूरे मंदिर की व्यवस्था को देखने के लिए सुप्रीम कोर्ट  एक ट्रस्ट बनाये। मंदिर की देखरेख के लिए सुप्रीम कोर्ट एक एडमिनिस्ट्रेटर नियुक्त करे।

राम जन्मभूमि पुनरुद्धार समिति ने भी मोल्डिंग ऑफ रिलीफ़ के हलफनामे में कहा है कि विवादित जमीन पर मंदिर बने और मंदिर की देखरेख और संचालन के लिए ट्रस्ट का गठन किया जाए ।

रामलला विराजमान ने मोल्डिंग ऑफ रिलीफ़ पर सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उसे सारा क्षेत्र राम मंदिर के लिए दिया जाए। निर्मोही अखाड़ा या मुस्लिम पार्टियों को जमीन का कोई हिस्सा नहीं मिलना चाहिए।

अयोध्या मामले में फैसला सुरक्षित रखते समय संविधान बेंच ने सभी पक्षकारों को मोल्डिंग ऑफ रिलीफ़ को लेकर तीन दिन में लिखित नोट जमा करने को कहा था। मोल्डिंग ऑफ रिलीफ़ का मतलब होता है कोर्ट से यह कहना कि अगर हमारे पहले वाले दावे को नहीं माना जा सकता तो नए दावे पर विचार किया जाए।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS