ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में मामा ने चिकेन-राइस खिला मोबाइल चुराई, अपहरण बाद भांजे पॉलीटक्निक छात्र की हुई हत्या, फिर उसी फोन से मांगी जा रही थी रंगदारी, नाना व मामा सहित चार हिरासत मेंकोचिंग डिपो पदस्थापित एरीया मैनेजर मुकुंद बिहारी का विदाई समारोह मनाया गया, भावुक हुए लोगअनूठी पहल: रामगढ़वा ब्लॉक में चाइल्ड लाइन के सदस्यों ने चलाया दोस्ती अभियानएसएसबी 47वी बटालियन पनटोका के द्वारा युवाओं को दिया वाहन चलाने का प्रशिक्षणअनुमण्डल कार्यालय का डीएम रमण कुमार ने किया निरीक्षण7 सूत्री मांगों को लेकर निर्माण मजदूरों ने जिला समाहर्ता के समक्ष किया प्रदर्शनशेयर बाजार: लगातार चौथे दिन दूरसंचार शेयरों में तेजी, वोडाफोन-आइडिया के शेयर 32 फीसदी उछले‘पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी’ की थीम पर मनेगा पुरुष नसबंदी पखवाड़ा
राष्ट्रीय
गूगल ने डूडल बनाकर बंगाली कवयित्री कामिनी रॉय की 155वीं जयंती पर किया याद
By Deshwani | Publish Date: 12/10/2019 11:48:39 AM
गूगल ने डूडल बनाकर बंगाली कवयित्री कामिनी रॉय की 155वीं जयंती पर किया याद

कोलकाता। सर्च इंजन गूगल ने आज अपना डूडल बंगाली कवयित्री, कार्यकर्ता और शिक्षाविद् कामिनी रॉय को समर्पित किया है। 12 अक्तूबर, 1864 को तत्कालीन बंगाल के बाकेरगंज जिले में जन्मी कामिनी रॉय की आज 155वीं जयंती है। कामिनी रॉय ने पर्दा प्रथा से मुक्ति के लिए बौद्धिक आंदोलन के जरिये पुरुष प्रधान समाज से लंबी लड़ाई लड़ी।  

 
उन्होंने अपने लेखन में महिला अधिकारों को प्रमुखता दी। उनकी आवाज की गूंज सारे देश में सुनी गई। महिला आजादी और सशक्तीकरण का मार्ग उन्होंने प्रशस्त किया। ब्रिटिश काल के भारत में वह ग्रेजुएट ऑनर्स की डिग्री हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला हैं। उन्होंने संस्कृत में ऑनर्स के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। कोलकाता यूनिवर्सिटी के बेथुन कॉलेज से 1886 में ग्रेजुएट होने के बाद वहीं प्रवक्ता हो गईं। 
 
उन्होंने बांग्ला महिलाओं को बंगाली लेगिसलेटिव काउंसिल में पहली बार 1926 में वोट दिलाने की लड़ाई में हिस्सा लिया। उनका अंतिम समय हजारीबाग (बिहार) में बीता। 27 सितम्बर, 1933 को वह चिरनिद्रा में लीन हो गईं। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS