ब्रेकिंग न्यूज़
पश्चिम चम्पारण के बगहा में नक्सली-एसटीएफ मुठभेड़ में 4 नक्सली हुए ढेरसमस्तीपुर : बेखौफ अपराधियों ने घर में घुस युवक को गोली मार की हत्यानेपाल पुलिस ने गांजा के साथ एक युवक को किया गिरफ्तारसमस्तीपुर : तीन बैंक अधिकारी सहित 21 कोरोना संक्रमित, संख्या पहुंची 380मोतिहारी के चकिया में एक ही मुहल्ले के पांच किशोरों की डूबकर हुई मौत, एनडीआरफ की आठ सदस्यीय टीम ने शवों को ढूढ़ा, मातमकोरोना बीमारी से जंग के लिए नहीं उठे उचित कदम : शरद यादवप्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण अन्‍न योजना को नवंबर तक बढाने की मंत्रिमंडल ने दी मंजूरीराज्यों के चिकित्सकों को एम्स विशेषज्ञ कोविड-19 के बारे में मार्गदर्शन उपलब्ध कराएंगे
राष्ट्रीय
गूगल ने डूडल बनाकर बंगाली कवयित्री कामिनी रॉय की 155वीं जयंती पर किया याद
By Deshwani | Publish Date: 12/10/2019 11:48:39 AM
गूगल ने डूडल बनाकर बंगाली कवयित्री कामिनी रॉय की 155वीं जयंती पर किया याद

कोलकाता। सर्च इंजन गूगल ने आज अपना डूडल बंगाली कवयित्री, कार्यकर्ता और शिक्षाविद् कामिनी रॉय को समर्पित किया है। 12 अक्तूबर, 1864 को तत्कालीन बंगाल के बाकेरगंज जिले में जन्मी कामिनी रॉय की आज 155वीं जयंती है। कामिनी रॉय ने पर्दा प्रथा से मुक्ति के लिए बौद्धिक आंदोलन के जरिये पुरुष प्रधान समाज से लंबी लड़ाई लड़ी।  

 
उन्होंने अपने लेखन में महिला अधिकारों को प्रमुखता दी। उनकी आवाज की गूंज सारे देश में सुनी गई। महिला आजादी और सशक्तीकरण का मार्ग उन्होंने प्रशस्त किया। ब्रिटिश काल के भारत में वह ग्रेजुएट ऑनर्स की डिग्री हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला हैं। उन्होंने संस्कृत में ऑनर्स के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। कोलकाता यूनिवर्सिटी के बेथुन कॉलेज से 1886 में ग्रेजुएट होने के बाद वहीं प्रवक्ता हो गईं। 
 
उन्होंने बांग्ला महिलाओं को बंगाली लेगिसलेटिव काउंसिल में पहली बार 1926 में वोट दिलाने की लड़ाई में हिस्सा लिया। उनका अंतिम समय हजारीबाग (बिहार) में बीता। 27 सितम्बर, 1933 को वह चिरनिद्रा में लीन हो गईं। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS