ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय
महामिलन हुआ दुनिया के दो बड़े नेताओं का, मोदी ने चीनी राष्ट्रपति को महाबलीपुरम में दिखाई भारत की अनोखी सांस्कृतिक विरासत
By Deshwani | Publish Date: 12/10/2019 10:40:10 AM
महामिलन हुआ दुनिया के दो बड़े नेताओं का, मोदी ने चीनी राष्ट्रपति को महाबलीपुरम में दिखाई भारत की अनोखी सांस्कृतिक विरासत

चेन्नई। महाबलीपुरम में दुनिया के दो बड़े नेताओं का महामिलन हुआ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को चेन्नई से 56 किलोमीटर दूर समुद्र तट पर स्थित महाबलीपुरम में भारत की सांस्कृतिक विरासत के दर्शन कराए। देर शाम चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ महाबलीपुरम में समुद्र किनारे स्थित मंदिर परिसर में भारतीय संस्कृति के विभिन्न रूप रंगों का अवलोकन किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में मेहमान नेता ने भारत की समृद्ध नाट्य शैलियों और अन्य कलाओं का मुग्ध कर देने वाला कार्यक्रम देखा।
 
 
समुद्र की लहरों से प्रच्छालित होने वाले इस प्राचीन मंदिर के परिसर में करीब एक घंटे के सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान कलाकारों ने भरत नाट्यम और कथकली नृत्यों के साथ ही पौराणिक प्रसंगों पर आधारित कार्यक्रमों को देखा। कार्यक्रम का समापन संत कबीर के भजन से हुआ। कार्यक्रम के बाद दोनों नेताओं ने कलाकारों के साथ समूह फोटोग्राफ खिंचवाया। बेंगलुरु स्थित कला क्षेत्र संस्था ने यह प्रस्तुतियां दी। कला क्षेत्र की विख्यात नृत्यांगना रुकमणी अरुंडेल ने 20वीं शताब्दी के आरंभ में की थी तथा इस संस्था ने भरत नाट्यम के प्रचार प्रसार में असाधारण योगदान दिया था।
 
 
नरेन्द्र मोदी ने मेहमान नेता को तमिलनाडु की हस्तकला से निर्मित दीपदान और तंजावुर पेंटिंग भेंट की। मोदी ने मेजबान नेता और उनके प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों को रात्री भोज दिया। इससे पहले चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने शुक्रवार को ऐतिहासिक शहर महाबलीपुरम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की जहां दोनों नेताओं की अनौपचारिक शिखर वार्ता तय है। राष्ट्रपति शी चेन्नई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर पहुंचे। यहां से वह कुछ देर आराम कर 56 किलोमीटर दूर समुद्र तट पर स्थित महाबलीपुरम पहुंचे।
 
प्रधानमंत्री मोदी महाबलीपुरम में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के स्वागत के दौरान तमिलनाडु की पारंपरिक वेशभूषा कुर्ता और वेष्टी में नजर आए। सफेद रंग के परिधान में मोदी ने मेहमान नेता को महाबलीपुरम के पुरातात्विक स्थलों का भ्रमण कराया तथा उन्हें हर स्थल के पुराणिक महत्व की जानकारी दी। दोनों नेताओं के साथ भाषा रुपातंकरण के लिए दो-भाषायी साथ नजर आए। कई अवसरों पर दोनों नेता एक-दूसरे के बीच वार्ता और बातचीत समझते नजर आए।
 
 
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखरवार्ता के लिए करीब 24 घंटे चेन्नई-महाबलिपुरम में प्रवास करेंगे। इससे पहले चेन्नई हवाईअड्डा परिसर में उतरने के बाद चीनी राष्ट्रपति का स्वागत रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन किया गया। तमिलनाडु के लोक कलाकार पारंपरिक वाद्य यंत्रों और नृत्य से उनका स्वागत करते हुए दिखाई दिए।
 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिंनपिंग तमिलनाडु के ऐतिहासिक और पुरातात्विक महत्व के समुद्र तटीय नगर महाबलिपुरम में बिना किसी पूर्व निर्धारित एजेंडे के विचार-विमर्श करेंगे। वार्ता का उद्देश्य सीमा पर शांति व स्थायित्व कामय रखना और विश्वास बहाली के उपायों को आगे बढ़ाना है। शी जिंगपिंग आज दोपहर बाद 1.30 बजे चेन्नई से नेपाल के लिए रवाना हो जाएंगे।
 
अनौपचारिक शिखर सम्मेलन दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक महत्व के अतिव्यापी मुद्दों पर चर्चा जारी रखने और भारत-चीन क्लोजर डेवलपमेंट पार्टनरशिप को गहन बनाने पर विचारों के आदान-प्रदान का एक मंच है। यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अनौपचारिक शिखरवार्ता के रूप में अंतरराष्ट्रीय कुटनीति में एक अभिनव प्रयोग है। ऐसी वार्ता के दौरान दो शीर्ष नेता बिना किसी निर्धारित एजेंडे के द्विपक्षीय संबंधों और विश्व मामलों पर खुले दिमाग से विचारों का आदान प्रदान करते हैं। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS